राजस्थान बोर्ड परीक्षार्थियों के दस्तावेजों में ऑनलाइन करेगा संशोधन, छात्र यहां पढ़ें पूरी जानकारी

राजस्थान बोर्ड परीक्षार्थियों के दस्तावेजों में ऑनलाइन करेगा संशोधन, छात्र यहां पढ़ें पूरी जानकारी

अजमेर 11 जून()। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने परीक्षा दस्तावेजों में संशोधन चाहने वाले अभ्यर्थियों के लिए कोविडकाल में बड़ी सकारात्मक पहल की है। परीक्षा दस्तावेजों में संशोधन चाहने वाले अभ्यर्थियों को बोर्ड के चक्कर लगाने की बजाए यह कार्य ऑनलाइन कर दिया जायेगा। राजस्थान बोर्ड परीक्षा दस्तावेजों में आॅनलाइन संशोधन की सुविधा उपलब्ध कराने वाला देश का पहला बोर्ड है।

बोर्ड के अध्यक्ष डाॅ. डी.पी. जारोली ने बताया कि बोर्ड परीक्षा में प्रतिवर्ष बैठने वाले लाखों अभ्यर्थियों को परिणाम घोषणा के पश्चात् कई वर्षों बाद यह महसूस होता है कि उनके परीक्षा दस्तावेजों में स्वयं नाम, पिता अथवा माता के नाम में त्रुटि है और संशोधन की आवश्यकता है तो वह बोर्ड के मुख्यालय आते है। वांछित दस्तावेजों के अभाव में चाहा गया संशोधन बोर्ड द्वारा स्वीकार नहीं किया जाता। इस कारण आवेदक को बोर्ड कार्यालय के चक्कर लगाने पडते थे। इन सब झंझटों से मुक्ति के लिए राजस्थान बोर्ड ने परीक्षा दस्तावेज संशोधन प्रक्रिया को ऑनलाइन करने का निर्णय लिया है। नई प्रक्रिया के अनुसार स्वयं के नाम अथवा पिता के नाम अथवा माता के नाम अथवा उपनाम में संशोधन अथवा जन्मतिथि में संशोधन के लिए आवेदक को बोर्ड की परीक्षा शाखा की ई-मेल आई.डी. इेमतककमगंउ2/हउंपसण्बवउ पर प्रार्थना पत्र, अंकतालिका अथवा प्रमाण पत्र (जिसमें संशोधन चाहा गया है), शाला रिकाॅर्ड अथवा स्काॅलर रजिस्टर्ड, आठवीं बोर्ड की अंकतालिका व प्रवेश आवेदन पत्र व पूर्व शाला का स्थानान्तरण पत्र स्कैन कर अपलोड करना होगा।

बोर्ड कार्यालय द्वारा उक्त मेल प्राप्त होने के पश्चात् प्रारम्भिक जांच हेतु शाखा में भेजा जायेगा। यदि प्रारम्भिक जांच में यह पाया गया कि संशोधन उचित है तो 24 घण्टे में प्रार्थना पत्र में दिये गये ई-मेल आई.डी. अथवा मोबाइल नम्बर पर निर्धारित संशोधन शुल्क आॅनलाईन पोर्टल ;।चचसल वदसपदम ंदक चंल वित कवबनउमदजेद्ध पर जमा कराकर चालान निकालने हेतु निर्देशित किया जायेगा।

यदि संशोधन स्वयं, पिता, माता के नाम में है, तो उक्त चालान तथा मूल अंकतालिका, प्रमाण पत्र बोर्ड कार्यालय को स्पीड पोस्ट से उप निदेशक (परीक्षा- ाा) माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान, अजमेर को प्रेषित करना होगा। जन्मतिथि में संशोधन का प्रकरण है तो प्रारम्भिक जांच में उचित पाए जाने पर छात्र को निर्धारित दिवस को मूल शाला रिकाॅर्ड के साथ बोर्ड कार्यालय में उपस्थित होने के लिए निश्चित तिथि और समय दिया जायेगा। जांच के पश्चात् विद्यार्थी को चाहा गया संशोधित दस्तावेज 15 कार्यदिवस में उसके निवास के पते पर स्पीड पोस्ट के जरिये भेज दिया जायेगा। बोर्ड ने इस हेतु एक हेल्पडेस्क भी बनाई है, जिसकी दूरभाष संख्या 0145-2945678 एवं 0145-2627376 है।

डाॅ. जारोली ने बताया कि कोविडकाल में विद्यार्थियों और शिक्षकों के सुविधार्थ बोर्ड की अनेक व्यवस्थाओं को आॅनलाइन किया है, जिसमें मुख्यतः ऑनलाइन प्रतिलिपि, मार्कशीट, प्रमाण पत्र हेतु आवेदन स्वीकार करना, बोर्ड सम्बद्धता हेतु ऑनलाइन आवेदन, बोर्ड परीक्षा से जुडे़ शिक्षकों और परीक्षा केन्द्रों के ऑनलाइन भुगतान किया जाना प्रमुख है। बोर्ड ने पिछले एक वर्ष में राजस्थान बोर्ड की विगत परीक्षाओं में प्रविष्ट एक करोड़ से अधिक परीक्षार्थियों के परीक्षा प्रमाण पत्र डिजीलाॅकर में उपलब्ध करा दिये है। इसके अतिरिक्त बोर्ड परीक्षकों से परीक्षार्थियों के प्रायोगिक, सैद्धांतिक और सत्रांक के प्राप्तांक भी आॅनलाइन मंगवाने की प्रक्रिया प्रारम्भ की जा चुकी है।


NEAT 2.0 के लिए CareerLabs के साथ साझेदारी करेगा AICTE

NEAT 2.0 के लिए CareerLabs के साथ साझेदारी करेगा AICTE

 अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद् (AICTE) ने देश भर के छात्रों के लिए नीट 2.0 (NEAT 2.0) के लिए बैंगलोर स्थित करियर बिल्डिंग प्लेटफार्म, करियरलैब्स (CareerLabs) के साथ साझेदारी की घोषणा की है। साझेदारी के परिणामस्वरूप, करियरलैब्स का प्रोफाइल बिल्डर लाइट प्रोडक्ट अब नामांकन के लिए पूरे भारत में सभी इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों के लिए उपलब्ध होगा।

बता दें कि करियरलैब्स एक मिशन पर है, जो स्टूडेंट्स को बेहतर सीखने और प्रोफाइल निर्माण के एक रणनीतिक और संगठित दृष्टिकोण के माध्यम से बेहतर कमाई करने में सक्षम बनाता है। कंपनी ने 1 मिलियन से अधिक छात्रों को प्लेसमेंट और उच्च अध्ययन में अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में सक्षम बनाने के मिशन के साथ भारत का पहला प्रोफाइल बिल्डर प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है। साझेदारी स्टूडेंट्स को भारत में कहीं से भी दूरस्थ रूप से एक ही मंच पर रोजगार योग्य कौशल और प्लेसमेंट के लिए योग्यता विकसित करने की अनुमति देगी। स्टूडेंट्स अपनी सुविधानुसार गुणवत्तापूर्ण शिक्षा अध्यापन तक पहुंच सकेंगे।

यह योजना समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के चुनिंदा छात्र-छात्राओं के लिए नि:शुल्क उपलब्ध होगी। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को समाज के सभी वर्गों तक पहुंचाने के लिए छात्रवृत्ति की पहल की गई है। नि:शुल्क सीटों का आवंटन शैक्षणिक संस्थानों द्वारा एनईएटी पोर्टल पर उपलब्ध कराई गई जानकारी के आधार पर होगा। प्रारंभ में पोर्टल को केवल भारत के एआईसीटीई अनुमोदित सरकारी कॉलेजों में पायलट चरण के रूप में लॉन्च किया जाएगा।



मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मुख्य समन्वय अधिकारी, अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई), बुद्ध चंद्रशेखर ने साझेदारी के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि एआईसीटीई देश भर में स्टूडेंट्स की प्रोफाइल बिल्डिंग को बढ़ावा देने के लिए करियरलैब्स के साथ साझेदारी करके खुश है। इससे स्टूडेंट्स को रोजगार योग्य बनने में मदद मिलेगी। उन्होंने आगे कहा कि आत्मनिर्भर भारत की दिशा में योगदान करने के लिए NEAT 2.0 के तहत इसकी पहल की गई है।