प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, जानें क्या है उद्देश्य

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, जानें क्या है उद्देश्य

नई दिल्ली: देशभर में महिलाओं और नवजात बच्चों के स्वास्थ्य और भविष्य को लेकर केंद्र सरकार कई अहम कदम उठा रही है। गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के कल्याण के लिए सरकार द्वारा प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना बनाई गयी है। इस योजना के तहत गर्भवती महिलाओं और स्तनपान करा रही महिलाओं को सरकार द्वारा 5000 रुपये की आर्थिक मदद दी जाती है।

यह सहायता राशि सीधे गर्भवती महिलाओं के खाते में जाती है। वर्ष 2019 के सितंबर में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की ओर से यह दावा किया गया है कि इस योजना के तहत कुल 4000 करोड़ से अधिक की राशि लाभार्थियों को वितरित कर दी गई है। इस योजना का लाभ उन महिलाओं को मिलता है जो दैनिक वेतनमान पर काम कर रही हैं या फिर जिनकी आर्थिक स्थिति काफी कमजोर है।

कैसे होता है भुगतान ?
प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का लाभ मात्र पहली जीवित संतान पर मिलता है। सरकार इस योजना के तहत तीन चरण में रुपये का भुगतान करती है। इस योजना की पहली किस्त में गर्भवस्था के रजिस्ट्रेशन के समय 1000 रुपये का भुगतान किया जाता है। वहीं दूसरी किस्त का भूगतान गर्भवती महिला के छह महीने पूरे पर किया जाता है। इसमें महिला को 2000 रुपये का भुगतान किया जाता है। इससे गर्भवती महिला को इलाज और दवाओं के खर्च में सहायता मिलती है।

वहीं तीसरी और अंतिम किस्त का भुगतान मां बनने के बाद बच्चे के जन्म के पंजिकरण के दौरान किया जाता है। तीसरी किस्त में भी 2000 रुपये का भुगतान किया जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि तीसरी किस्त का भुगतान तब किया जाता है जब नवजात बच्चे को BCG, OPV, DPT और हेपेटाइटिस-B की पहली वैक्सीन लगा दी जाती है। इसके अलावा एक हजार का अतिरिक्त लाभ जननी सुरक्षा योजना के तहत महिला को प्रसव के ही दौरान दे दिया जाता है।

योजना का उददेश्य
प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का उद्देश्य गर्भावस्था, प्रसव और स्तनपान के दौरान महिलाओं को जागरूक करना और जच्चा-बच्चा देखभाल और संस्थागत सेवा के उपयोग को बढ़ावा देना है। साथ ही महिलाओं को पहले छह महीनों के लिए प्रारंभिक और विशेष स्तनपान और पोषण प्रथाओं का पालन करने के लिए प्रोत्साहित करना। इसके अलावा गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं को बेहतर स्वास्थ्य और पोषण के लिए नकद प्रोत्साहन प्रदान करना।

ऐसे करें आवेदन
आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का संचालन किया जाता है। महिलाएं वहां जा कर इस योजना के लिए पंजीकरण करा सकती हैं। इसके अलावा स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों पर भी पंजीकरण कराया जा सकता है। इसमें आशा कार्यकर्ता मदद करती हैं।

आवेदन के लिए जरूरी डॉक्युमेंट
आधार कार्ड की फोटोकॉपी

बैंक या पोस्ट ऑफिस खाता की पासबुक

आधार न होने पर पहचान संबंधी अन्य विकल्प

पीचएसी या सरकारी अस्पताल से जारी स्वास्थ्य कार्ड

सरकारी विभाग/कंपनी/संस्थान से जारी कर्मचारी पहचान पत्र


PM Kisan: अगर 2,000 रुपये की आठवीं किस्त चाहते हैं तो जल्द करा लीजिए रजिस्ट्रेशन

PM Kisan: अगर 2,000 रुपये की आठवीं किस्त चाहते हैं तो जल्द करा लीजिए रजिस्ट्रेशन

केंद्र सरकार पात्र किसानों को हर वित्त वर्ष में 6,000 रुपये की सीधी नकद सहायता उपलब्ध कराती है। सरकार तीन बराबर किस्त में किसानों के खाते में यह रकम भेजती है। इस स्कीम के तहत सरकार अब तक कुल सात किस्त भेज चुकी है। चालू वित्त वर्ष की सभी तीनों किस्त सरकार किसानों के बैंक खातों में हस्तांतरित कर चुकी है। अब इस योजना की अगली किस्त सरकार अप्रैल से जुलाई के बीच किसी भी समय पात्र किसानों के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर करेगी। अगर आप भी खेती-किसानी करते हैं और अब तक इस योजना के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है तो आपके पास अब भी समय है। आप थोड़ा सा समय निकालकर इस स्कीम के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। 

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM Kisan Samman Nidhi) योजना के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया काफी आसान है। आप पंचायत सचिव या पटवारी या स्थानीय कॉमन सर्विस सेंटर के लिए इस योजना के लिए अप्लाई करा सकते हैं। इसके अलावा आप खुद भी इस योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। आइए जानते हैं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रोसेसः


1. PM Kisan की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाइए।

2. अब Farmers Corner पर जाइए।

3. यहां आपको 'New Farmer Registration' के विकल्प पर क्लिक कीजिए।

4. इसके बाद आधार नंबर डालना होगा। साथ ही कैप्चा कोड डालकर राज्य को चुनना होगा और फिर प्रोसेस को आगे बढ़ाना होगा।

5. इस फॉर्म में आपको अपना पूरा व्यक्तिगत विवरण भरना होगा।

6. साथ ही बैंक अकाउंट का विवरण और खेत से जुड़ी जानकारी भरनी होगी। इसके बाद आप फॉर्म सबमिट कर सकते हैं।


आप इसी वेबसाइट के जरिए अपने एप्लीकेशन की स्थिति चेक कर पाएंगे। 

हालांकि, रजिस्ट्रेशन कराने से पहले आपको इस योजना की पात्रता चेक कर लेनी चाहिए। खेती करने वाले सीए, वकील, डॉक्टर जैसे प्रोफेशनल्स को इस योजना का लाभ नहीं मिल सकता है। साथ ही अगर आप इनकम टैक्स रिटर्न भरते हैं या फिर आपको 10,000 रुपये से ज्यादा की मासिक पेंशन मिलती है तो आप इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते हैं। 


केंद्रीय विद्यालय वायु सेना स्थल, बरनाला में वॉक-इन-इंटरव्यू 23 फरवरी से       घोषित हुआ टियर 2 परीक्षा का परिणाम, इस लिंक से देखें सफल उम्मीदवारों की लिस्ट       सीटीईटी आंसर-की इस डायरेक्ट लिंक से करें डाउनलोड       बिहार पुलिस लेडी कॉन्स्टेबल परीक्षा के फाइनल रिजल्ट करें चेक       हरियाणा बोर्ड ने डीएलएड परीक्षा का संशोधित शेड्यूल किया जारी       मैनेजमेंट प्रवेश परीक्षा के नतीजे इस पर जारी, करें चेक       बिहार सरकार का निर्णय, कक्षा 1 से 8 तक के छात्र बिना परीक्षा के होंगे पास       जम्मू विंटर जोन के लिए 12वीं परीक्षा का रिजल्ट जारी       एमबीबीएस फर्स्ट प्रोफेशनल की फाइनल परीक्षा की डेटशीट जारी       10वीं की सोशल साइंस का पेपर लीक होने पर बिहार बोर्ड ने की रद्द की परीक्षा       ऑल इंडिया बार एग्जामिनेशन के लिए आज बंद होगी रजिस्ट्रेशन विंडो       10वीं और 12वीं की परीक्षाओं की तारीखों का ऐलान विधानसभा चुनावों की तिथियों की घोषणा के बाद       हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने क्लर्क लिखित परीक्षा का परिणाम घोषित       अधिकतम और न्यूनतम आयु सीमा में 30 दिनों की छूट दे सकते हैं स्कूल, प्रिंसिपल को करना होगा अप्रोच       ऑल इंडिया बार एग्जामिनेशन स्थगित, आवेदन की तारीख 22 मार्च तक बढ़ी       कामधेनु गोविज्ञान प्रचार प्रसार परीक्षा 2021 स्थगित, राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने जारी किया अपडेट       सहायक अभियोजन अधिकारी प्रारंभिक परीक्षा के ‘आंसर की’ जारी       कल से होनी है जेईई मेन परीक्षा, करें अधिक स्कोर       जेईई मेन परीक्षा के दौरान उम्मीदवार ध्यान में रखें ये कुछ नियम       रेलवे भर्ती बोर्ड ने 'आंसर की' जारी की, दिसंबर और जनवरी में हुए थे मिनिस्टीरियल