पानी समझकर मासूम बच्‍चे ने पी लिया यह लिक्विड, गोपालगंज की घटना सभी अभिभावकों के लिए सीख

पानी समझकर मासूम बच्‍चे ने पी लिया यह लिक्विड, गोपालगंज की घटना सभी अभिभावकों के लिए सीख

छोटी सी लापरवाही कितनी भारी पड़ सकती है इसका अंदाजा बुधवार को कुचायकोट थानाक्षेत्र के कवलाचक निवासी परिवार को हुआ। यहां दो साल के एक बच्‍चे ने पानी समझकर बोतल में भरकर रखा थ‍िनर पी ली। कुछ ही देर में बच्‍चा बेहोश हो गया। आनन-फानन में उसे अस्‍पताल में भर्ती कराया गया। वहांं उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। बच्‍चे के इलाज के लिए शिशु रोग विशेषज्ञ को बुलाया गया है। बच्‍चे की स्थिति पर नजर रखी जा रही है। कवलाचक गांव निवासी बबलू कुमार अपने घर के दरवाजे पर पेंट करा रहे हैं। इसी दौरान यह घटना हुई। 

थिनर पीने के बाद बिगड़ गई बच्‍चे की हालत 

दरवाजे के पास पेंट के डब्बे के साथ बोतल में थिनर रखा था। बुधवार को बबलू का दो वर्षीय पुत्र वहीं पर खेल रहा था। नन्‍हां बच्‍चा खेलते हुए उस पेंट और थिनर के पास पहुंच गया। इसके बाद उसने थ‍िनर के बोतल में मुंह लगा दी। वह थ‍िनर पी गया। लेकिन कुछ ही देर में उसकी हालत बिगड़ गई। बच्‍चा बेहोश हो गया। परिवार के लोगों को इसका पता चला तो उनलोगों ने माथा पीट लिया। स्वजन उसे सदर अस्पताल ले गए। वहां भर्ती कर इलाज शुरू किया गया। सदर अस्पताल के डा. एके चौधरी ने बताया कि बच्चा होश में आ गया है। थिनर को पेट से बाहर निकालने के लिए उल्टी कराई जा रही है। शिशु रोग विशेषज्ञ को बच्चे के इलाज के लिए बुलाया गया है।


बच्‍चों के मामले में विशेष सावधानी जरूरी 

बच्‍चों के मामले में अभिभावकों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत होती है। बच्‍चों की ये सामान्‍य  आदत होती है कि वे किसी भी पदार्थ को मुंह में डाल लेते हैं। ऐसे में किसी नुकीली, जहरीली या खतरनाक वस्‍तुओं से दूर रखना चाहिए। विशेषज्ञों का कहना है कि बच्‍चों को कभी भी अकेला नहीं छोड़ना चाहिए। 


बिहार में 534 डाटा इंट्री आपरेटरों को जल्‍द मिलेगी नौकरी, माडर्न रिकार्ड रूम में की जाएगी पोस्टिंग

बिहार में 534 डाटा इंट्री आपरेटरों को जल्‍द मिलेगी नौकरी, माडर्न रिकार्ड रूम में की जाएगी पोस्टिंग

राज्य के सभी 534 अंचलों में माडर्न रिकार्ड रूम के लिए डाटा इंट्री आपरेटर (Data Entry Operator) की नियुक्ति इसी महीने होगी। आनलाइन परीक्षा के जरिए इनका चयन हो चुका है। बेल्ट्रान ने सफल उम्मीदवारों की लिस्ट राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग को सौंप दी है। इनकी ज्वाइनिंग और पोस्टिंग के बारे में निर्णय लेने के लिए विभाग के अपर मुख्य सचिव विवेक कुमार सिंह ने बुधवार को बैठक की। निदेशक, भू अभिलेख जय सिंह, संयुक्त सचिव  कंचन कपूर एवं एलआईएस सलाहकार अखिलेश कुमार झा समेत अन्य वरीय पदाधिकारी उपस्थित थे। तय हुआ कि सभी आपरेटरों को ज्ञान भवन में एकसाथ नियुक्ति पत्र दिया जाए। इसके लिए 20 सितम्बर को कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। 

गृह प्रमंडल में पुरुष कर्मियों को पोस्टिंग नहीं

इसमें प्रशिक्षण सामग्री और किट भी दिए जाएंगे। राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रामसूरत कुमार कार्यशाला का उद्घाटन करेंगे। कार्यशाला में इन्हें तकनीकी बिन्दुओं के बारे में  जानकारी दी जाएगी। पोस्टिंग के बारे में तय किया दगया कि किसी भी पुरुष कर्मी की नियुक्ति अपने प्रमंडल में नहीं होगी। महिला कर्मी की नियुक्ति गृह जिला के बाहर एवं होगी। यह गृह प्रमंडल के जिलों में उनकी पोस्टिंग हो सकती है। नियुक्ति के बाद सभी कर्मियों को प्रशिक्षण के लिए गृह जिले के किसी अन्य अंचल में कुछ दिनों के लिए भेजा जाएगा। 

छह दिनों का दिया जाएगा प्रशिक्षण 

पोस्टिंग के बाद नवनियुक्त डाटा इंट्री आपरेटर को छह दिनों का प्रशिक्षण दिया जाएगा। यह  60-60 कर्मियों के बैच में दिया जाएगा। पीआरओ राजेश कुमार सिंह ने बताया कि  फिलहाल 163 मॉडर्न रिकार्ड रूम कार्य शुरू करने की स्थिति में हैं। अन्य अंचलों के रिकार्ड रूम भी जल्द तैयार होंगे। डाटा इंट्री आपरेटर जमीन से जुड़ी सेवाओं के अलावा सेवा के अधिकार वाले विषयों में सीओ की अनुमति से प्रमाण पत्र जारी कर सकेंगे। इससे अंचल अधिकारियों के काम का बोझ कम होगा और आम लोगों को समय सीमा के भीतर सेवा मिल पाएगी।