'पीएम किसान' योजना के 33 लाख फर्जी लाभार्थियों पर होगी बड़ी कार्रवाई

'पीएम किसान' योजना के 33 लाख फर्जी लाभार्थियों पर होगी बड़ी कार्रवाई

किसानों की माली हालत सुधारने के लिए शुरू की गई 'पीएम-किसान' योजना में भी सेंध लगा ही दी गई। राज्य सरकारों ने ऐसे 33 लाख लोगों की पहचान कर ली है, जो मापदंड के अनुसार इसका लाभ पाने के अयोग्य थे लेकिन उन्होंने सरकारी खजाने को तकरीबन ढाई हजार करोड़ रुपये की चपत लगाई है। केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से इन अयोग्य लोगों से तत्काल वसूली शुरू करने को कहा है। हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, बिहार, झारखंड, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र समेत कुल 18 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में वसूली की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बाकी राज्यों में भी वसूली जल्द ही शुरू की जा सकती है। किसानों की पात्रता सत्यापित करने वाले लापरवाह अफसरों व कर्मचारियों पर भी गाज गिर सकती है।

पीएम-किसान योजना के तहत किसानों को हर साल दो-दो हजार रुपये की तीन किस्त में कुल छह हजार रुपये की मदद दी जाती है। पात्र किसानों के लिए केंद्र सरकार ने मानक तय कर रखे हैं। इन मानकों को पूरा करने वाले किसानों की सूची राज्यों को भेजनी होती है। लेकिन या तो राज्यों ने कोताही की या फिर कुछ लोगों ने जानबूझकर आंखों मे धूल झोंका। 


ऐसे अपात्र भी ले रहे पीएम-किसान योजना का धन

सत्यापन प्रक्रिया की जांच के दौरान 32,91,152 किसानों को अपात्र लाभार्थी पाया गया है। इन किसानों के बैंक में खातों में पीएम-किसान योजना का धन हस्तांतरित कर दिया गया है। इसके अलावा केंद्र सरकार ने आधार और पैन नंबर से मिलान के दौरान पाया कि कई लाख ऐसे किसान भी हैं, जो आयकर जमा करते हैं यानी उनके आय के स्रोत अलग भी हैं। इसी तरह सरकारी और गैर सरकारी नौकरी वाले और पेंशन पाने वाले भी लाभ उठाने से नहीं चूके हैं। अब ऐसे लोगों की खैर नहीं है। सभी राज्य सरकारें इस दिशा में सक्रिय हो चुकी हैं, जिससे जल्द ही वसूली की प्रक्रिया तेज हो जाएगी।


तमिलनाडु में 158 करोड़ की वसूली

कृषि मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कर्नाटक में 2.04 लाख फर्जी पंजीकरण की पहचान की गई है। जबकि तमिलनाडु में यह संख्या 6.96 लाख से अधिक है और इनसे 158.57 करोड़ रुपये की वसूली भी कर ली गई है। गुजरात में फर्जी लाभार्थियों की संख्या सात हजार से अधिक है। हरियाणा में 35 हजार है, जबकि पंजाब में 4.70 लाख अपात्र लोगों को पता लगा लिया गया है।

उत्तर प्रदेश में 1.78 लाख फर्जी लाभार्थी

उत्तर प्रदेश में फर्जी लाभार्थियों की संख्या 1.78 लाख है, जिनसे 171.5 करोड़ रुपये वसूले जाने हैं। राजस्थान में इनकी संख्या 1.32 लाख है। लगभग सभी 35 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में इस तरह की गड़बड़ी पाई गई हैं।अधिकारी के मुताबिक राज्य सरकारें अपने यहां किसानों की पात्रता की सत्यापन प्रक्रिया में लगे उन अफसरों व कर्मचारियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई भी कर सकती हैं, जिन्होंने इस तरह की गड़बड़ी की है।


लिस्ट में ऐसे चेक करें अपना नाम

1-सबसे पहले आप https://pmkisan.gov.in/ पोर्टल पर जाएं

2- यहां Payment Success टैब के नीचे भारत का नक्शा दिखेगा

इसके नीचे Dashboard लिखा होगा, इसे क्लिक करें।

3- यह Village Dashboard का पेज है, यहां आप अपने गांव की पूरी डिटेल ले सकते हैं।

4- सबसे पहले स्टेट स्लेक्ट करें, इसके बाद अपना जिला, फिर तहसील और फिर अपना गांव।


5- इसके बाद शो बटन पर क्लिक करें, क्लिक करने के बाद आपको पूरे गांव में कितने किसान रजस्टर्ड हैं, कितने को किस्त मिल रही है या किसका आवेदन रिजेक्ट हुआ है जैसी सारी जानकारी मिल जाएगी।

क्या है पीएम किसान सम्मान निधि?

पीएम किसान सम्मान निधि के तहत केंद्र सरकार किसानों द्वारा किसानों को हर वर्ष 6000 रुपए खेती के लिए दिए जाते हैं। केंद्र सरकार द्वारा इस योजना की शुरुआत किसानों को कर्जमुक्त कराने के लिए की गई है। सरकार 6,000 रुपए साल भर में 3 किश्तों में देती है। जिसके तहत 4 महीने में एक किश्त किसानों के खाते में भेजी जाती है। हर किश्त में 2000 रुपया दिया जाता है। अब तक किसानों के खाते में केंद्र सरकार की ओर से सात किश्त जमा हो चुकी है।


6 राज्यों को मिला ये बड़ा लाभ, पीएम मोदी ने की स्वामित्व योजना की शुरुआत

6 राज्यों को मिला ये बड़ा लाभ, पीएम मोदी ने की स्वामित्व योजना की शुरुआत

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज स्वामित्व योजना की शुरुआत की। बता दें कि इस योजना के तहत करीब एक लाख संपत्ति मालिक अपनी संपत्ति से जुड़े कार्ड अपने मोबाइल फोन पर एसएमएस लिंक के जरिये डाउनलोड कर सकते हैं। गौरतलब है कि इस योजना का एलान पीएम मोदी ने लॉकडाउन के दौरान किया था। वहीं अब इस स्कीम के पहले चरण की शुरआत हो गयी है।

स्वामित्व योजना का हुआ उद्घाटन
दरअसल, कोरोना संकट के बीच लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा एलान किया था, उन्होंने स्वामित्व योजना लागू करने की बात कही थी, जिसके पहले चरण की शुरुआत आज से हो गयी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये योजना का शुभारम्भ किया। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर समेत कई मंत्री कार्यक्रम में शामिल हुए। पीएम मोदी ने देश के एक लाख लोगों को प्रॉपर्टी कार्ड बांटे हैं।

क्या है स्वामित्व योजना
ये योजना पंचायतीराज मंत्रालय के तहत शुरू की गयी है। योजना के अंतर्गत जमीन मालिकों को उनकी संपत्ति के मालिकाना हक के रिकार्ड से जुड़े कार्ड भौतिक तौर पर (फिजिकली ) उपलब्ध कराए जाएंगे।

किसे मिलेगा योजना का लाभ:
इस योजना का लाभ देश के 6 राज्यों के 763 गाँवों को मिल रहा है। इनमें उत्तर प्रदेश के 346, हरियाणा के 221, महाराष्ट्र के 100 मध्य प्रदेश के 44, उत्तराखंड के 50 और कर्नाटक के दो गांव शामिल हैं।

बताया गया कि महाराष्ट्र को छोड़कर इन सभी राज्यों के लाभार्थियों को एक दिन में ही अपने संपत्ति कार्ड की भौतिक रूप से प्रतियां प्राप्त हो जायेगी। वहीं महाराष्ट्र में संपत्ति कार्डों के लिये कुछ राशि लिए जाने की व्यवस्था है, इसलिए वहां लाभ प्राप्त करने में एक महीने का समय लगेगा।


केंद्रीय विद्यालय वायु सेना स्थल, बरनाला में वॉक-इन-इंटरव्यू 23 फरवरी से       घोषित हुआ टियर 2 परीक्षा का परिणाम, इस लिंक से देखें सफल उम्मीदवारों की लिस्ट       सीटीईटी आंसर-की इस डायरेक्ट लिंक से करें डाउनलोड       बिहार पुलिस लेडी कॉन्स्टेबल परीक्षा के फाइनल रिजल्ट करें चेक       हरियाणा बोर्ड ने डीएलएड परीक्षा का संशोधित शेड्यूल किया जारी       मैनेजमेंट प्रवेश परीक्षा के नतीजे इस पर जारी, करें चेक       बिहार सरकार का निर्णय, कक्षा 1 से 8 तक के छात्र बिना परीक्षा के होंगे पास       जम्मू विंटर जोन के लिए 12वीं परीक्षा का रिजल्ट जारी       एमबीबीएस फर्स्ट प्रोफेशनल की फाइनल परीक्षा की डेटशीट जारी       10वीं की सोशल साइंस का पेपर लीक होने पर बिहार बोर्ड ने की रद्द की परीक्षा       ऑल इंडिया बार एग्जामिनेशन के लिए आज बंद होगी रजिस्ट्रेशन विंडो       10वीं और 12वीं की परीक्षाओं की तारीखों का ऐलान विधानसभा चुनावों की तिथियों की घोषणा के बाद       हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने क्लर्क लिखित परीक्षा का परिणाम घोषित       अधिकतम और न्यूनतम आयु सीमा में 30 दिनों की छूट दे सकते हैं स्कूल, प्रिंसिपल को करना होगा अप्रोच       ऑल इंडिया बार एग्जामिनेशन स्थगित, आवेदन की तारीख 22 मार्च तक बढ़ी       कामधेनु गोविज्ञान प्रचार प्रसार परीक्षा 2021 स्थगित, राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने जारी किया अपडेट       सहायक अभियोजन अधिकारी प्रारंभिक परीक्षा के ‘आंसर की’ जारी       कल से होनी है जेईई मेन परीक्षा, करें अधिक स्कोर       जेईई मेन परीक्षा के दौरान उम्मीदवार ध्यान में रखें ये कुछ नियम       रेलवे भर्ती बोर्ड ने 'आंसर की' जारी की, दिसंबर और जनवरी में हुए थे मिनिस्टीरियल