PM Kisan Yojana का 451 किसानों ने लिया लाभ, अब साढ़े 32 लाख रुपए वसूलेगी सरकार

PM Kisan Yojana का 451 किसानों ने लिया लाभ, अब साढ़े 32 लाख रुपए वसूलेगी सरकार

कृषि विभाग के ऑफिसरों के गलती के कारण झारखंड के बोकारो में आयकर देने वाले 451 किसानों ने पीएम किसान सम्मान निधि का फायदा ले लिया है वैसे किसानों से 32.4 लाख रुपए की वसूली करने की तैयारी बोकारो जिले में की जा रही है इसके लिए सभी आयकर देने वाले किसानों को नोटिस भेजा जा रहा है ऐसे जिले में आयकर देने वाले किसानों की संख्या 693 है नोटिस भेजे जाने के बाद आयकर देने वाले किसानों की मुश्किल बढ़ेगी और उन्हें पैसे जल्द लौटाने होंगे जिले के अपर समाहर्ता सादात अनवर ने बताया कि अहर्ता नहीं रखने वाले किसानों के भुगतान पर सरकार स्तर से रोक लगाई जा रही है, जो भी अयोग्य लाभुकों की सूची सरकार से आई थी उसका सत्यापन करने का आदेश दिया गया है वसूली की राशि किस खाते में जमा की जानी है इस विषय में मार्गदर्शन भी मांगा जा रहा है

प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना का फायदा ऐसे सैकड़ों लोग भी उठा लिए जो अर्हता नहीं रखते हैं प्रथम एवं दूसरे किस्‍त की राशि भी संबंधित लोगों ने ले लिया है लिहाजा केन्द्र सरकार स्तर से ही अब संबंधित आयकर देने वालों से राशि वसूली की कार्रवाई प्रारम्भ कर दी गई है बोकारो में भी ऐसे लोगों को चिह्नित किया गया गया है, जो इनकम टैक्स दाता हैं और किसान सम्मान योजना का फायदा ले लिया ऐसे लोगों से 33.06 लाख रुपये की वसूली होगी इसमें से 451 लोगों ने कम से कम पहली किस्त की राशि दो हजार रुपए ली है ऐसे में संबंधित किसानों से राशि वसूली के लिए नोटिस भेजा जा रहा है इस विषय में अपर समाहर्ता सादात अनवर ने बताया कि अर्हता नहीं रखने वाले किसानों का भुगतान पर रोक सरकार स्तर से ही लगाई जा रही है

दरअसल, सरकार ने कर देने वाले किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि योजना से बाहर रखा गया था इसके बावजूद इतनी बड़ी संख्या में टैक्सपेयर किसान इस योजना ने कैसे शामिल हो गए, यह एक बड़ा प्रश्न है कृषि विभाग के ऑफिसरों की गलती के कारण पीएम किसान सम्मान निधि योजना का फायदा अयोग्य लाभुकों को भी मिल गया इस योजना के लाभुकों के चयन में कृषि विभाग ने केन्द्र के दिशा-निर्देश का पालन नहीं किया गया आनन-फानन में लाभुकों के खाते में दो-दो हजार रुपये ट्रांसफर कर दिये गये लाभुकों की यह सूची पिछले वर्ष (2018) की पीएम फसल बीमा योजना से तैयार कर ली गयी थी इसमें कई वैसे लाभुकों को भी पैसा मिल गया, जो कर देते हैं या सरकारी सेवा से रिटायर हुए हैं
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अनुसार छोटे और सीमांत किसानों को हर वर्ष 6,000 रुपए दिए जाते हैं यह रक़म सीधे किसानों के खाते में जाती है सीमांत किसान से मतलब ऐसे किसानों से है, जो अधिकतम एक हेक्टेयर यानी 2.5 एकड़ तक ज़मीन पर खेती करते हैं छोटे किसानों की परिभाषा में ऐसे किसान आते हैं, जो एक हेक्टेयर से दो हेक्टेयर तक ज़मीन यानी पाँच एकड़ तक ज़मीन पर खेती करते हैं इनकम टैक्स चुकाने वालों को इस स्कीम के दायरे से बाहर रखा गया था साथ ही ऐसे रिटायर्ड लोग, जिनकी पेंशन 10,000 रुपए या उससे ज़्यादा है, उन्हें भी इस स्कीम का फायदा नहीं मिल सकता है.केंद्र सरकार ने 2019 में इस स्कीम को लॉन्च किया था

किस प्रखंड में कितने से होगी वसूलीबेरमो प्रखंड में 5 लघु किसान जिन्होंने 16 किस्तों में ₹32000 लिए हैं चंदनकियारी में 65 अयोग्य लाभुकों ने 292 किस्तों में ₹548000 लिए ,चंद्रपुरा प्रखंड में 36 आयोग लाभुकों ने 117 किस्तों में ₹234000 लिए, चास प्रखंड में 83 किसानों ने 225 किस्तों में 4.50 लाख, गोमिया प्रखंड में 55 आयोग लाभुकों ने 228 किस्तों में ₹456000 ले लिए जरीडीह में 44 आयोग लाभुकों ने 140 किस्तों में ₹280000, कसमार में 74 लाभुकों ने 247 किस्तों में ₹494000, नावाडीह में 45 आयोग लाभुकों ने 193 किस्तों में ₹386000 और पेटरवार प्रखंड में 44 आयोग लागू होने 144 किस्तों में ₹288000 की राशि ले ली


PM Kisan: पीएम किसान की 8वीं किस्‍त जारी होगी अब, इसके पहले करें यह काम

PM Kisan: पीएम किसान की 8वीं किस्‍त जारी होगी अब, इसके पहले करें यह काम

क्‍या आप किसान हैं, तो यह खबर आपके लिए उपयोगी हो सकती है। प्रधानमंत्री किसान की आठवीं किस्‍त इस महीने में आने वाली है। पीएम किसान सम्‍मान निधि के 11 करोड़ 74 लाख अभ्‍यार्थियों के खाते में आठवीं किस्‍त बहुत जल्‍द ही खाते में आ जाएगी। क्‍या आपका नाम पीएम किसान लिस्‍ट में है, तो तैयार हो जाइए। आप आज ही अपना स्टेटस चेक करें। मसलन आपको कितनी किस्त मिल चुकी है ? क्‍या आपकी कोई  किस्त रुकी है ? आप किस्त रुकने की वजह भी जान सकते हैं। उन्हें तत्‍काल दुरुस्‍त करा सकते हैं। आप अगली किस्त को पा सकते हैं। इसके लिए आप नीचे दिए गए स्‍टेप को फॉलो करें।

क्‍या आपका नाम पीएम किसान योजना में शामिल है

दरअसल, सरकार प्रधानमंत्री किसान के सभी लाभार्थियों की एक सूची जारी करती है। इस सूची में जिनका नाम होता है, उन्हें ही यह किस्त आती है। इसलिए यह जरूरी है कि सबसे पहले आपको यह चेक करना चाहिए कि आपका नाम इस सूची में है कि नहीं। इसे आसान सात स्‍टेप से जाना जा सकता है। अभी तक सरकार सात किस्तें जारी कर चुकी है। आखिरी किस्त दिसंबर 2020 में जारी हुई थी। अब 1 अप्रैल से किसानों के खाते में 2000 रुपए की 8वीं किस्त आने वाली है। इस प्रकार 8वीं किस्त के साथ किसानों के खाते में 6000 रुपए आ जाएंगे।


सात आसान स्‍टेप में चेक कर सकते हैं अपना स्‍टेट्स

पहला स्‍टेप : सबसे पहले आप पीएम किसान की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाएं।
दूसरा स्‍टेप: वेबसाइट खोलने के बाद राइट साइड पर 'Farmers Corner' का विकल्प मिलेगा
तीसरा स्‍टेप:  ‘Beneficiary Status' के ऑपशन पर क्लिक करें। इस पर क्लिक करते ही नया पेज खुल जाएगा।
चौथा स्‍टेप: इस पेज पर आधार संख्‍या, बैंक खाता या मोबाइल नंबर में से किसी एक विकल्‍प चुनिए।
पांचवां स्‍टेप: आपने जिस विकल्‍प को चुना है उसका नंबर भरिए।  
छठवां स्‍टेप : इसके बाद 'Get Data' पर क्लिक करें। इसके जरिए आप अपना अकाउंट स्‍टेटस चेक कर सकते हैं। आपका पैसा किस अकाउंट में आया है, यह जानकारी भी मिल जाएगी। इसके साथ 8वीं किस्त से जुड़ी सभी जानकारी यहां से प्राप्‍त होगी।
सातवां स्‍टेप: यदि 'FTO is generated and Payment confirmation is pending’ लिखा दिख रहा है तो समझिए कि फंड ट्रांसफर की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। यह किस्त कुछ ही दिनों में आपके खाते में ट्रांसफर हो जाएगी।
तीन किस्‍तों में पीएम किसान योजना


प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान न‍िधि योजना मोदी सरकार ने 24 फरवरी 2019 को शुरू किया था। यह योजना 1 दिसंबर 2018 से प्रभावित है।केंद्र सरकार की इस योजना के तहत प्रत्‍येक वित्‍त वर्ष में किसानों को 6000 रुपये तीन किस्‍तों में देती है। प्रत्‍येक किस्‍त 2000-2000 की होती है। इस योजना के तहत प्रत्‍येक वर्ष किस्‍त एक अप्रैल से 31 जुलाई, दूसरी किस्‍त 1 अगस्‍त से 30 नवंबर और तीसरी किस्‍त 1 दिसंबर से 31 मार्च के बीच आती है।


अपने गलत नाम को ऐसे कराएं ठीक

क्‍या आप परेशान है, क्‍योंकि आपका नाम गलत दर्ज है। यानी अप्लीकेशन और आधार में आपका नाम अलग-अलग है तो आप इसे ऑनलाइन ठीक कर सकते हैं। अगर कोई और त्रुटि है तो इसे आप अपने लेखपाल और कृषि विभाग कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा वेबसाइट पर दिए गए Helpdesk ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आप आधार नंबर, अकाउंट नंबर और मोबाइल नंबर एंटर करने के बाद जो भी गलतियां हैं, उन्हें सुधार सकते हैं। जैसे आधार नंबर में सुधार, स्पेलिंग में गलती ऐसी तमाम गलतियों को ठीक किया जा सकता है।