पीएम Kisan: आने वाली है 9वीं किस्त लेकिन, 2 करोड़ किसानों की अटक जाएगी रकम!

पीएम Kisan: आने वाली है 9वीं किस्त लेकिन, 2 करोड़ किसानों की अटक जाएगी रकम!

देश के 11 करोड़ किसानों के बैंक खातों में नरेन्द्र मोदी सरकार की तरफ से 1.35 लाख करोड़ रुपये डाले जा चुके हैं। अब सरकार नौवीं किस्त (अगस्त-नवंबर) भी जल्द ही किसानों के खातों में डालने वाली है। लेकिन कई किसानों को ये किस्त नहीं मिलेगी।  

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के अनुसार 13 जुलाई 2021 तक केन्द्र सरकार के पास 12.30 करोड़ लोगों की एप्लीकेशन आ चुकी हैं। लेकिन इनमें से 2.77 करोड़ किसानों के आवेदनों में गलतियां हैं। इन गलतियों को दुरुस्त किया जाना है। इसके अतिरिक्त करीब 27.50 लाख किसानों के लेंन-देंन फेल हो चुके हैं और 31.63 लाख किसानों का आवेदन पहले ही लेवल पर रद्द किया जा चुका है। यूपी के 2.84 करोड़ किसानों के डेटा में करेक्शन होने बाकी हैं। ऐसे किसानों की तादाद झारखंड, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में इससे भी अधिक है।

इस योजना का लाभ ऐसे लोग भी उठा रहे हैं जो इसके दायरे में नहीं आते हैं। कई राज्यों को ऐसी शिकायतें मिली हैं। सरकारों ने अब ऐसे अपात्र किसानों की पहचान करके उन पर कार्रवाई भी प्रारम्भ कर दी है। सरकार ने इन अपात्र लोगों के नाम किसान सम्मान निधि योजना से काट दिए हैं। इसके अतिरिक्त जिन किसानों ने स्कीम से गलत ढंग से पैसे लिए हैं उन पैसों की वापस वसूली की जा रही है।  

दरअसल, एप्लीकेशन में कई छोटी छोटी गलतियों की वजह से आपकी किस्त अटक सकती है। जैसे 
1. किसान का नाम ENGLISH में होना महत्वपूर्ण है 
2. जिन किसानों का नाम आवेदन में हिंदी में है उन्हें सुधारकर अंग्रेजी में करना महत्वपूर्ण है।   
3. यदि आवेदन में आवेदक का नाम और बैंक एकाउंट में आवेदक का नाम भिन्न-भिन्न है तो भी पेमेंट फेल हो सकता है।  
4. बैंक का IFSC कोड, बैंक एकाउंट नंबर और गांव के नाम लिखने में यदि गलती हुई है तो आपकी किस्त आपके खाते में नहीं आएगी।  
5. हाल ही में, जिन बैंकों का दूसरी बैंकों में विलय हुआ है, उनके IFSC कोड बदल गए हैं। इसलिए आवेदक को अपना नया IFSC कोड अपडेट करना चाहिए।  

योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करते समय हुई गलतियों में सुधार करने के लिए सबसे पहले आपको pmkisan.gov.in वेबसाइट पर जाना होगा।
इसके बाद आपको 'Farmers Corner' के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।  
इसके बाद आपको 'Aadhaar Edit' का ऑप्शन दिखाई पड़ेगा। यहां पर आप अपने आधार नंबर में सुधार कर सकते हैं।
यदि आपने अपना बैंक एकाउंट नंबर गलत भर दिया है, तो आपको इसमें सुधार करवाने के लिए कृषि विभाग ऑफिस में या लेखपाल से सम्पर्क करना होगा।


किसानों के लिए खुशखबरी: सरकार की बड़ी योजना, अब मिलेगी सबको राहत

किसानों के लिए खुशखबरी: सरकार की बड़ी योजना, अब मिलेगी सबको राहत

कृषि कानूनों का लेकर जारी किसानों की नाराजगी के बीच उनके लिए खुशखबरी है। केंद्र सरकार की योजनाओं के तहत 12 लाख किसानों को लाभ मिलने वाला है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लाभर्थियों को किसान क्रेडिट कार्ड देने जा रही है। ये लाभ खासकर यूपी के किसानों के लिए है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के 12 लाख लाभर्थियों को KCC मिलने वाला
दरअसल, उत्तर प्रदेश के निवासी किसान, जो कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के पात्र हैं, को योगी सरकार किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) जारी करने जा रही है। इसके लिए लाभार्थी आसानी से आवेदन कर सकते हैं। इस योजना से 12 लाख लोगों को फायदा होगा। यूपी सरकार और केंद्र सरकार के बीच इस बाबत बातचीत चल रही है।

मौजूदा समय पर यूपी में प्रधानमंत्री-किसान सम्मान निधि योजना के कुल 2.43 करोड़ लाभार्थी हैं। इनमें से 1.53 करोड़ किसानों ने केसीसी बनवा लिया है, जबकि, करीब 90 लाख किसानों ने केसीसी के लिए आवेदन भी नहीं किया है।

किसान क्रेडिट कार्ड क्या है?
लाभार्थियों के लिए ये जानना जरुरी है कि किसान क्रेडिट कार्ड होता क्या है, और इससे आपको क्या फायदा मिलेगा। बैंक क्रेडिट कार्ड की तरह ही किसान क्रेडिट कार्ड होता है, जो किसानों को खेती के लिए खाद, बीज, कीटनाशक आदि खरीदने के लिए आसानी से लोन देता है। ख़ास बात ये होती है कि इस कार्ड से लोन बहुत सस्ता मिलता है। 2 से 4 फीसदी की दर से ही ब्याज देना होता है। हालंकि इसके इस्तेमाल को लेकर एक शर्त ये होती है कि समय पर लोन का पुनर्भुगतान कर दिया जाए।

ये भी जानकारी देनी होती है कि किसी अन्य बैंक या शाखा से कोई और किसान क्रेडिट कार्ड नहीं बनवाया है।

फॉर्म भरने के लिए आवेदक को आईडी प्रूफ जैसे-वोटर कार्ड, पैन कार्ड, पासपोर्ट, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस चाहिए होता है। अड्रेस प्रूफ भी इनका इस्तेमाल होता है।

किसान क्रेडिट कार्ड को आवेदक किसी भी को-ऑपरेटिव बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक(RRB) से हासिल कर सकते हैं।

इसके अलावा SBI, BOI और IDBI बैंक से भी KCC लिया जा सकता है।

किसान क्रेडिट कार्ड मिलेगा किसे?
KCC केवल किसानी और खेती करने वालो को ही नहीं मिलता, बल्कि पशुपालन और मछलीपालन करने वालों को भी 2 लाख रुपये तक का कर्ज लेने की सहुलियत देता है। वह जमीनी खेती करता हो या न करता हो, लेकिन खेती-किसानी, मछलीपालन और पशुपालन से जुड़ा कोई भी व्यक्ति इसका लाभ ले सकता है।

इसके लिए उम्र भी निर्धारित है। कम से कम 18 साल और अधिकतम 75 साल के लोग आवेदन कर सकते हैं। अगर किसान की उम्र 60 साल से अधिक है तो एक को-अप्लीकेंट भी लगेगा, जिसकी उम्र 60 से कम हो।