इस तारीख से किसानों के खातों में आएगी पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त

इस तारीख से किसानों के खातों में आएगी पीएम किसान योजना की 7वीं किस्त

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi scheme) की सातवीं किस्त एक दिसंबर से किसानों के खातों में डलना शुरू हो जाएगी। मोदी सरकार इस योजना के तहत हर साल किसानों के खातों में 6000 रुपये डालती है। यह राशि दो-दो हजार रुपये की तीन किस्तों में दी जाती है। मोदी सरकार पिछले 23 महीनों में 11.17 करोड़ किसानों के बैंक खातों में 95 करोड़ से अधिक राशि डाल चुकी है। अब सरकार इस योजना के तहत दो हजार रुपये की सातवीं किस्त किसानों के खातों में डालने की तैयारी कर रही है।

पीएम किसान सम्मान निधि के तहत हर किस्त चार महीनों के अंतराल में किसानों के खाते में ट्रांसफर की जाती है। योजना के तहत पहली किस्त 1 दिसंबर से 31 मार्च के बीच जारी की जाती है। दूसरी किस्त 1 अप्रैल से 31 जुलाई और तीसरी किस्त 1 अगस्त से 30 नवंबर के बीच में किसानों के खाते में ट्रांसफर की जाती है। अगर आपका नाम इस योजना के लाभार्थियों की अपडेटेड लिस्ट में दर्ज है, तो आपको भी इस स्कीम के तहत लाभ मिलेगा। आइए जानते हैं कि इस योजना के लाभार्थियों की लिस्ट में कैसे अपना नाम चेक किया जा सकता है।

स्टेप 1. सबसे पहले आपको पीएम किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan Yojana) की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in पर जाना होगा।

स्टेप 2. अब वेबसाइट खुलने पर दाहिनी तरफ 'Farmers Corner' दिखाई देगा। यहां आपको 'Beneficiary List' के विकल्प पर क्लिक करना होगा।

स्टेप 3. अब स्क्रीन पर एक नया पेज खुलकर आएगा। इस पेज पर आपको राज्य, जिला, उप-जिला, प्रखंड और गांव का चयन करना होगा।

स्टेप 4. इसके बाद आपको 'Get Report' पर क्लिक करना होगा।

स्टेप 5. अब आपकी स्क्रीन पर लाभार्थियों की लिस्ट खुल जाएगी। यह कई पेज में होगी। इन पेज पर आप अपना नाम चेक कर सकते हैं।

लिस्ट में नाम नहीं है, तो करें यह काम

अगर पीएम किसान योजना के लाभार्थियों की पिछली लिस्ट में आपका नाम था और अपडेटेड लिस्ट में आपका नाम नहीं है, तो आप पीएम किसान के हेल्पलाइन नंबर पर इसकी शिकायत कर सकते हैं। शिकायत करने के लिए आपको हेल्पलाइन नंबर 011-24300606 पर कॉल करना होगा।


किसानों के लिए खुशखबरी: सरकार की बड़ी योजना, अब मिलेगी सबको राहत

किसानों के लिए खुशखबरी: सरकार की बड़ी योजना, अब मिलेगी सबको राहत

कृषि कानूनों का लेकर जारी किसानों की नाराजगी के बीच उनके लिए खुशखबरी है। केंद्र सरकार की योजनाओं के तहत 12 लाख किसानों को लाभ मिलने वाला है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लाभर्थियों को किसान क्रेडिट कार्ड देने जा रही है। ये लाभ खासकर यूपी के किसानों के लिए है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के 12 लाख लाभर्थियों को KCC मिलने वाला
दरअसल, उत्तर प्रदेश के निवासी किसान, जो कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के पात्र हैं, को योगी सरकार किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) जारी करने जा रही है। इसके लिए लाभार्थी आसानी से आवेदन कर सकते हैं। इस योजना से 12 लाख लोगों को फायदा होगा। यूपी सरकार और केंद्र सरकार के बीच इस बाबत बातचीत चल रही है।

मौजूदा समय पर यूपी में प्रधानमंत्री-किसान सम्मान निधि योजना के कुल 2.43 करोड़ लाभार्थी हैं। इनमें से 1.53 करोड़ किसानों ने केसीसी बनवा लिया है, जबकि, करीब 90 लाख किसानों ने केसीसी के लिए आवेदन भी नहीं किया है।

किसान क्रेडिट कार्ड क्या है?
लाभार्थियों के लिए ये जानना जरुरी है कि किसान क्रेडिट कार्ड होता क्या है, और इससे आपको क्या फायदा मिलेगा। बैंक क्रेडिट कार्ड की तरह ही किसान क्रेडिट कार्ड होता है, जो किसानों को खेती के लिए खाद, बीज, कीटनाशक आदि खरीदने के लिए आसानी से लोन देता है। ख़ास बात ये होती है कि इस कार्ड से लोन बहुत सस्ता मिलता है। 2 से 4 फीसदी की दर से ही ब्याज देना होता है। हालंकि इसके इस्तेमाल को लेकर एक शर्त ये होती है कि समय पर लोन का पुनर्भुगतान कर दिया जाए।

ये भी जानकारी देनी होती है कि किसी अन्य बैंक या शाखा से कोई और किसान क्रेडिट कार्ड नहीं बनवाया है।

फॉर्म भरने के लिए आवेदक को आईडी प्रूफ जैसे-वोटर कार्ड, पैन कार्ड, पासपोर्ट, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस चाहिए होता है। अड्रेस प्रूफ भी इनका इस्तेमाल होता है।

किसान क्रेडिट कार्ड को आवेदक किसी भी को-ऑपरेटिव बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक(RRB) से हासिल कर सकते हैं।

इसके अलावा SBI, BOI और IDBI बैंक से भी KCC लिया जा सकता है।

किसान क्रेडिट कार्ड मिलेगा किसे?
KCC केवल किसानी और खेती करने वालो को ही नहीं मिलता, बल्कि पशुपालन और मछलीपालन करने वालों को भी 2 लाख रुपये तक का कर्ज लेने की सहुलियत देता है। वह जमीनी खेती करता हो या न करता हो, लेकिन खेती-किसानी, मछलीपालन और पशुपालन से जुड़ा कोई भी व्यक्ति इसका लाभ ले सकता है।

इसके लिए उम्र भी निर्धारित है। कम से कम 18 साल और अधिकतम 75 साल के लोग आवेदन कर सकते हैं। अगर किसान की उम्र 60 साल से अधिक है तो एक को-अप्लीकेंट भी लगेगा, जिसकी उम्र 60 से कम हो।