उज्‍ज्‍वला योजना के तहत अब नहीं जलते कई घरों के चूल्‍हे, बढ़ रही रसोई गैस सिलेंडर की कीमत

उज्‍ज्‍वला योजना के तहत अब नहीं जलते कई घरों के चूल्‍हे, बढ़ रही रसोई गैस सिलेंडर की कीमत

घरेलू उपयोग में आने वाले गैस सिलेंडर की कीमत जैसे-जैसे बढ़ती गई, उसी प्रकार सब्सिडी भी नीचे की ओर घिसकती चली गई। वर्तमान समय में गैस सिलेंडर की रिफिलिंग कराने पर 79 रूपया लाभुक के खाते में पहुंच रहा है।

बढ़े हुए रेट के कारण उज्जवला योजना में लिए गए गैस कनेक्शन के सिलेंडर रिफिलिंग नहीं किए जा रहे। जबकि, उज्जवला योजना के अंतर्गत पहली बार चूल्हा व गैस सिलेंडर आदि मुफ्त में मिले थे। गैस एजेंसी के संचालक ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान समय में मात्र 25 प्रतिशत ही उज्जवला योजना के गैस सिलेंडरों के रिफिलिंग हो रही है।

बरसात के दिनों में अधिक बारिश होने के बाद उज्जवला योजना के सिलेंडर की रिफिलिंग में थोड़ी गति आती हैं। दरअसल बारिश के बाद लकड़ी तथा उपला पर खाना बनाने में मुश्किल होता है, तो मजबूरन बढ़े हुए दाम पर सिलेंडर लेना पड़ता है। वर्तमान समय में 14.2 किलो ग्राम गैस सिलेंडर का कीमत 935.50 पैसा है। इस अधिक कीमत पर गैस लेने से गरीब के साथ-साथ मध्यमवर्गीय परिवारों क के बजट पर इसका असर व्यापक रूप से दिख रहा है।


कब-कब कैसे रहा गैस सिलेंडर की कीमत

एक जनवरी -  795  रूपया

31 जनवरी - 795  रूपया

एक फरवरी - 795 रूपया

चार फरवरी - 820 रूपया

 15 फरवरी - 870 रूपया

25 फरवरी - 895 रूपया

एक मार्च - 920 रूपया

31 मार्च - 920 रूपया

एक अप्रैल - 910 रूपया

30 अप्रैल - 910 रूपया

एक मई -  910 रूपया

31 मई - 910 रूपया

 
एक जून - 910 रूपया

30 जून - 910 रूपया

एक जुलाई -  935.50 रुपया


PM Kisan: आने वाले हैं 2,000 रुपये, आपको मिलेंगे या नहीं, ऐसे कर सकते हैं चेक

PM Kisan: आने वाले हैं 2,000 रुपये, आपको मिलेंगे या नहीं, ऐसे कर सकते हैं चेक

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की नौवीं किस्त के तहत लाभार्थी किसानों के अकाउंट में दो हजार रुपये आने वाले हैं। केंद्र सरकार अगले महीने किसानों के खाते में यह रकम डाल सकती है। इसकी वजह यह है कि इस स्कीम के तहत हर वित्त वर्ष में सरकार लाभार्थी किसानों के बैंक खातों में कुछ छह हजार रुपये भेजती है। सरकार तीन बराबर किस्तों में किसानों के बैंक अकाउंट में सीधे धनराशि ट्रांसफर करती है। इसकी पहली किस्त अप्रैल से जुलाई के मध्य, दूसरी किस्त अगस्त से नवंबर के बीच और तीसरी किस्त दिसंबर से मार्च के बीच लाभार्थी किसानों के अकाउंट में डालती है।

सरकार चालू वित्त वर्ष की पहली किस्त और स्कीम की शुरुआत से लेकर अब तक की आठवीं किस्त किसानों के खाते में डाल चुकी है। अगर आप भी इस स्कीम के बेनिफिशियरी हैं तो आप यह जानना चाहते होंगे कि आपको इस स्कीम के तहत 2,000 रुपये की अगली किस्त मिलेगी या नहीं।

इस तरह चेक कर सकते हैं यह जानकारी

अगर आप इस बारे में जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो आप इन स्टेप्स के जरिए चेक कर सकते हैं कि यह किस्त आपके अकाउंट में आएगी या नहींः

1. PM Kisan की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ को खोलिए।

2. अब Farmer's Corner में 'Beneficiary Status' पर क्लिक कीजिए।

3. आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।

4. इस पेज पर आधार नंबर, मोबाइल नंबर और अकाउंट नंबर में से किसी एक विकल्प को चुनिए।


5. आपने जिस नंबर को चुना है, उसपर क्लिक कीजिए।

6. जिस ऑप्शन को चुना है, वह नंबर डालिए।

7. अब 'Get Data' पर क्लिक कीजिए।

8. आपका सामने पूरा विवरण आ जाएगा।

9. इस पेज पर किसान का नाम, मोबाइल नंबर, आधार नंबर, राज्य, जिला, गांव, अकाउंट नंबर, रजिस्ट्रेशन की तारीख और रजिस्ट्रेशन नंबर दिखेगा।

10. यहां आपको Active और InActive के ऑप्शन को देखना है।

11. अगर इस कॉलम में Active लिखा हुआ है तो इसका मतलब है कि आपका पीएम किसान अकाउंट एक्टिव है।


12. इसका मतलब है कि आपको इस स्कीम के तहत नौवीं किस्त मिलेगी।

लिस्ट में भी चेक कर लीजिए नाम

अगर आप पूरी तरह संतुष्ट होना चाहते हैं तो PM Kisan की वेबसाइट पर 'Farmer's Corner' में 'Beneficiary List' पर क्लिक कीजिए। अब राज्य, जिला, उप-जिला, ब्लॉक और गांव को ड्रॉप डाउन लिस्ट से सेलेक्ट कीजिए। अब 'Get Report' पर क्लिक कीजिए। अब आपके सामने लाभार्थियों की पूरी लिस्ट आ जाएगी। लाभार्थियों की सूची कई पेज में होती है। आप अपने नाम के पहले अक्षर के हिसाब से इस सूची में अपना नाम चेक कर सकते हैं।