कर्नाटक के रूफ टॉप कैफे में बैठकर लें नार्थ, साउथ से लेकर इटैलियन फूड तक का मज़ा

कर्नाटक के रूफ टॉप कैफे में बैठकर लें नार्थ, साउथ से लेकर इटैलियन फूड तक का मज़ा

यहां जगह जगह 'रूफ टॉप कैफे' खुले हुए हैं, जो देर रात तक ग्राहकों को सेवा उपलब्ध कराते हैं। इन कैफे में पर्यटक हिप्पी संस्कृति का लुत्फ उठा सकते हैं और अन्य देसी-विदेशी जायकों का आनंद ले सकते हैं। यहां जाएं तो यहां बनने वाली केले के फूल की सब्जी का लुत्फ ले सकते हैं। यह एक विश्र्व धरोहर स्थल है, इसकी वजह से यहां विश्र्व के कोने-कोने से लोग आते हैं, इसलिए यहां के रेस्तरां और कैफे के खानों में बड़ी विविधता मिलती है। यहां गौतमी गेस्ट हाउस के कैफे में मध्य-पूर्व के खानों के साथ साथ इटैलियन व्यंजनों की भरमार है। उनके यहां के हुमुस, फलाफल आदि तो प्रसिद्ध हैं ही, साथ में पेस्तो सॉस के साथ बने पास्ता वहां की खासियत है। वहां की जर्मन बेकरी में कई तरह के शानदार बेकरी उत्पाद मिलते हैं, जिनका स्वाद वाकई उम्दा होता है। इसी तरह का एक और रेस्तरॉ है लॉफिंग बुद्धा, जहां का इजराइली प्लेटर बहुत प्रसिद्ध है!

लेकिन कुछ और भी जायके हैं जिनका आप यहां की सड़कों पर घूमते हुए लुत्फ उठा सकते हैं। जानेंगे इनके बारे में...

नीर डोसा

कर्नाटक में नीर का मतलब पानी होता है। नीर डोसा यहां की बहुत ही मशहूर डिश है। जिसे बनाने के लिए चावल को रातभर पानी में भिगोया जाता है लेकिन खमीर उठना जरूरी नहीं। कर्नाटक की सड़कों के किनारे लगने वाले छोटी-छोटी दुकानों से लेकर बड़े-बड़े रेस्टोरेंट्स तक में नीर डोसे का स्वाद चखा जा सकता है। इसे चटनी, करी और सांभर के साथ परोसा जाता है।

कोरी गासी

कोरी का मतलब चिकन और गासी का मतलब करी। इसमें चिकन को कई तरह के मसालों और नारियल के साथ पकाया जाता है। ये मंगलौर की खास डिश है जिसे डोसा, नीर डोसा और रोटी के साथ सर्व किया जाता है।

कुंदापुरा कोली सारू

यह भी चिकन की ही डिश है जिसे यहां के लोग बहुत ही चाव के साथ खाते हैं। लेकिन इसका असली स्वाद मंगलौर चखने को मिलता है। प्याज, अदरक, लहसुन, कोकोनट मिल्क और भी कई तरह के दूसरे मसालों के साथ इस डिश को तैयार किया जाता है। जिसे नीर डोसा, चावल और रोटी के साथ खाना पसंद करते हैं।

मैसूर मसाला डोसा

यह भी डोसा का ही एक प्रकार है जिसे चटनी और भरावन के साथ बनाया जाता है। लाल चटनी और आलू मसाला डोसे के अंदर भरा जाता है। गरमा-गरम इस डोसे का स्वाद बढ़ाने का काम करते हैं नारियल की चटनी और सांभर। मैसूर डोसे का स्वाद भी आप कर्नाटक के किसी भी खानपान के ठीहे पर खड़े होकर ले सकते हैं।

मैसूर पाक

अगर आप कर्नाटक गए हैं तो यहां आकर मैसूर पाक का स्वाद खुद भी लें और दोस्तों-रिश्तेदारों को भी खिलाएं। बेसन, घी और मिलकर से तैयार किए जाने वाले मैसूर पाक को वैसे तो मिठाई की दुकानों पर ही चखा जा सकता है। लेकिन अगर आप दिवाली के मौके पर यहां आए हैं तो हर घर में इसकी सौंधी-सौंधी खुशबू आती रहती है।

मैंगलोरियन बिरयानी

वेजिटेरियन हैं या नॉन-वेजिटेरियन, मैंगलोरियन बिरयानी को आप अपनी फरमाइश पर बनवा सकते हैं। बिरयानी को जायकेदार बनाने का काम करता है इसमें मिलाया जाने वाला मसाले का पेस्ट। नारियल, साबुत धनिया, इलायची, सौंफ, लौंग, अदरक, सूखी लाल मिर्च, लहसुन और जीरे जैसे कई सारे खुशबूदार मसालों से तैयार होता है ये पेस्ट। सीज़नल सब्जियों और मसालों का ये पेस्ट बिरयानी में दम भरने का काम करते हैं और एक बार जिसने इसका स्वाद चख लिया वो कभी नहीं भूलता। यहां भी बिरयानी को रायता और दही के साथ ही परोसा जाता है।

उडुपी सांभर

केरल के सांभर से अलग यह सांभर हल्का मीठा और स्पाइसी होता है। इसे जायकेदार बनाने के लिए इसमें लाल मिर्च, हींग नारियल, साबुत धनिया, सौंफ और जीरे का तड़का लगाया जाता है। चना और उड़द दाल से तैयार इस सांभर को इडली, डोसे और यहां तक की चावल के साथ भी लोग चटकारे ले-लेकर कर खाते हैं।

पोंगल

यहां पोंगल भी दो तरीके से बनाया जाता है खट्टा-मीठा। नाश्ते में खाई जाने वाली ये डिश कर्नाटक को त्योहारों के मौके पर भी बनाने की परंपरा है। इसमें चावल और मूंग दाल की बराबर मात्रा होती है। प्रोटीन और कार्बोहाइट्रेड से भरपूर सुबह यहां की ज्यादातर दुकानें इसकी खुशबू से सरोबार रहती हैं।  


इंटरनेशनल पैसेंजर्स का कोरोना टेस्ट हुआ जरूरी, सी.1.2 वेरिएंट्स से निपटने की तैयारियां तेज

इंटरनेशनल पैसेंजर्स का कोरोना टेस्ट हुआ जरूरी, सी.1.2 वेरिएंट्स से निपटने की तैयारियां तेज

कोरोनावायरस के नए वेरिएंट सी.1.2 के सामने आने के बाद मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर आने वाले सभी भारत से बाहर के देशों से आने वाले पैसेंजर्स के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट जरूरी कर दिया गया है। बीएमसी ने एक सर्कुलर जारी किया है जिसमें ये कहा है कि 3 सितंबर से यूके, यूरोप, मिड ईस्ट, साउथ अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरिशस, न्यूजीलैंड, जिंबॉब्वे से मुंबई एयरपोर्ट पर पहुंचने वाले इंटरनेशनल पैसेंजर्स के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट जरूरी है। गौरतलब है कि नया कोविड वेरिएंट सी.1.2 पहली बार साउथ अफ्रीका में मिला था।

पुराने नियम खारिज

इस नए नियम के लागू होने के बाद से पुराने नियम रद्द हो जाएंगे, जिसमें वैक्सीन की दोनों डोज लगा होना और 65 साल से ज्यादा उम्र के वृद्धों को मिलने वाली छूट शामिल है। नए सर्क्युलर के मुताबिक, ट्रैवल करने वाले इंटरनेशनल पैसेंजर्स के लिए क्वारंटाइन होने वाला नियम खत्म हो चुका है।

दूसरे देशों के यात्रियों को लानी होगी नेगेटिव रिपोर्ट

मुंबई एयरपोर्ट पर एक घंटे में कम से कम तीन यात्रियों की कोरोना जांच पूरी कर ली जाएगी।

ऊपर बताए गए देशों के अलावा अन्य देशों से आने वाले पैसेंजर्स को आने पर या कही और जाने वाले यात्रियों को 72 घंटे के अंदर का आरटी-पीसीआर टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट दिखाना ही होगा। जिसके बाद ही पैसेंजर एयरपोर्ट से बाहर जा सकेगा।

ऐसे पैसेंजर्स को एयरपोर्ट पर आरटी-पीसीआर टेस्ट कराने की जरूरत नहीं होगी। हालांकि, एयरपोर्ट पर आरटी-पीसीआर टेस्ट की पूरी व्यवस्था मौजूद होगी। वहां प्रतिघंटे 600 लोगों का टेस्ट किया जा सकता है।

दुनिया के इन देशों में मिला C.1.2 वैरिएंट

कोविड-19 के लिए WHO की टेक्निकल लीड मारिया वैन केरखोव ने मंगलवार को कहा कि C.1.2 वैरिएंट कम से कम 6 देशों में पाया गया है। WHO के मुताबिक, दक्षिण अफ्रीका के रिसर्चर्स ने पहली बार 21 जुलाई को WHO वायरस इवोल्यूशन वर्किंग ग्रुप को C.1.2 वेरिएंट पर अपने रिजल्ट पेश किए थे। ये नया वेरिएंट पहली बार मई में दक्षिण अफ्रीका में देखा गया था। रिसर्चर ने मुताबिक C.1.2 वेरिएंट वुहान में जन्मे मूल वायरस से भी ज्यादा खतरनाक है।