कई रंग-बिरंगे ऐतिहासिक और सांस्कृतिक धरोहरों को संजोए हुए 'पैठण' है बहुत ही खूबसूरत और खास

कई रंग-बिरंगे ऐतिहासिक और सांस्कृतिक धरोहरों को संजोए हुए 'पैठण' है बहुत ही खूबसूरत और खास

चौड़े पाट की गोदावरी नदी के तट पर बसा है पैठण। गोदावरी नदी को ससम्मान 'दक्षिण की गंगा' भी कहा जाता है। आप पैठण को गोदावरी का जलमग्न नेत्र भी कह सकते हैं, पवित्र पैठण की वह आंख, जिसमें बहती गोदावरी की जलधारा जैसे नदी का लहराता आंचल हो। इस प्राचीन नदी से मिलता-जुलता पैठण का इतिहास भी पुरातन है। महाराष्ट्र पैठण के बिना अधूरा है। औरंगाबाद जिले के दिल में बसा पैठण जिला मुख्यालय से तकरीबन 56 किमी. दूर है। यह छोटा-सा शहर कभी सातवाहन राजवंश की राजधानी रहा है।

संतों की भूमि

पैठण को 'संतों की भूमि' भी कहा जाता है। यह स्थान वैष्णववाद के निम्बार्क सम्प्रदाय परंपरा के संस्थापक श्री निम्बार्क का जन्मस्थान भी है। इस शहर को 'दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र' के लिए भी जाना जाता है। 20वें जैन तीर्थंकर मुनिसुव्रतनाथ की काले रंग की सुंदर मूर्ति जैन मंदिर में स्थापित है, जो अर्द्धपद्मासन मुद्रा में साढ़े तीन फीट ऊंची मूलनायक प्रतिमा है। यहां हर अमावस्या को यात्रा एवं महामस्तक अभिषेक होता है। यह प्रतिमा राजा खरदूषण द्वारा निर्मित कराई गई है। अन्य मंदिरों में प्रतिमाएं पाषाण या धातुओं की होती है, पर यहां आपको बालू-रेती से बनी प्रतिमा देखने को मिलती है। यह शहर संत एकनाथ महाराज का भी निवास स्थान रहा, जिनकी समाधि यहां है। एकनाथ प्रसिद्ध मराठी संत थे, जिनका जन्म संत भानुदास के कुल में हुआ था। संत एकनाथ प्रवृत्ति और निवृत्ति का अनूठा समन्वय थे।

सबने पुकारा अपनी नजर से

ग्रीक लेखक एरियन ने पैठान को 'प्लीथान' कहा और भारत की यात्रा करने वाले मिस्त्र के रोमन भूगोलविद टॉलमी ने इसका नाम 'बैथन' लिखा है और इसे 'सित्तेपोलोमेयोस' (सातवाहन नरेश श्री पुलोमावी द्वितीय 138-170 ई.) की राजधानी बताया है। 'पेरिप्लस ऑफ दि एरिथ्रियन सी' के अज्ञात नाम लेखक ने इस नगर का नाम 'पोथान' लिखा है।

गौरवपूर्ण रहा है इतिहास

पुरातन पैठण की महिमा आपको पाणिनी की 'अष्टाध्यायी' में भी मिलेगी। यह स्थान योद्धाओं,संतों और सूफियों का संगम रहा है। सातवाहन वंश की राजधानी रहे पैठण पर प्रथम सातवाहन राजा ने राज्य किया और फिर साम्राज्य की सीमा आधे हिंदुस्तान तक जा पहुंची थी। फिर यह चालुक्य वंश के हाथ में भी गया। यादव वंश ने भी यहां राज्य किया। गोदावरी वैली सभ्यता के अतिरिक्त हिंदू, बौद्ध एवं जैन धर्म के लोग यहां आकर बसे। मुगल भी आए। 17वीं शताब्दी में मराठाओं ने पैठण के धार्मिक और आर्थिक उत्थान के बारे में सोचा। प्रतिष्ठान में स्थापित होने वाली आंध्र शाखा के नरेशों ने अपने नाम के आगे 'आंध्रभृत्य' विशेषण जोड़ा था। पुरातत्व संबंधी खोदाई में आंध्र नरेशों के सिक्के मिले हैं, जिन पर स्वास्तिक चिह्न अंकित हैं। मिट्टी की मूर्तियां, माला की गुरियां, हाथी दांत और शंख की बनी वस्तुएं और मकानों के खंडहर यहां मिले हैं।

धार्मिक पर्यटन के लिए चर्चित

देशभर से लोग तीर्थाटन के लिए पैठण आते हैं। पैठण का आदर तीर्थ स्थल के रूप में अधिक होता है। विदेशी पर्यटक भी यहां खूब आते हैं। धर्म-संस्कृति-सभ्यता-इतिहास के लिए पैठण उनके सामने खुली किताब की तरह है, इसीलिए वे अपने भ्रमण को स्टडी टूर की संज्ञा देते हैं। यहां गोकुल अष्टमी चाव से मनाई जाती है। दही-हांडी का इंतजार भी पूरे पैठण को साल भर होता है। महादेव के सिद्धेश्र्वर मंदिर में महाशिवरात्रि पर्व पर खास तौर से यात्रा होती है।

कैसे और कब?

पैठण से जुड़ने का सबसे सुलभ साधन बस सेवा है। यहां पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी एयरपोर्ट औरंगाबाद शहर में है। वैसे यहां सभी मौसमों में आया जा सकता है, पर सबसे बेहतर एकनाथ षष्ठी उत्सव का समय है, जिसका आयोजन मार्च के महीने में होता है। यह संत एकनाथ की स्मृति में प्रतिवर्ष आयोजित होता है।


विकेंड पर कुदरती नज़ारों के बीच वक्त गुजारना चाहते हैं तो...

विकेंड पर कुदरती नज़ारों के बीच वक्त गुजारना चाहते हैं तो...

कुदरती नज़ारों का लुत्फ उठाना चाहते हैं तो हिमाचल में घूमने के लिए बेहद नजारें मौजूद है। हिमाचल की पब्बर वैली कुदरती नजारों का अद्धभुत संगम है। आप ऑफबीट डेस्टिनेशन जाना चाहते हैं तो पब्बर वैली आपके लिए बेस्ट डेस्टिनेशन है। इस वैली में प्राकृति के हज़ारों रंग बिखरे पड़े हैं। यहां कई तरह की एडवेंचर्स एक्टिविटी करने का भी मौका मिलता है। यहां मौजूद देवदार और ओक के हरे भरे जंगल, खूबसूरत नदियों और झरनों का नज़ारा इस जगह की खूबसूरती में चार चांद लगाता है। प्राकृतिक सौन्दर्य के अलावा यहां रिजर्व फॉरेस्ट और नेचर पार्क भी है जहां आपको नेचर के तमाम रंग नज़र आएंगे। तो चलिए हम आपको पब्बर घाटी के कुछ बेहतरीन ट्रेक्स के बारे में बताते हैं जहां आप विकेंड पर घूमने की प्लानिंग बना सकते हैं।

गडसरी सरू ट्रेक:

गडसरी सरू ट्रेक पूरे देश में सबसे दुर्लभ ट्रेक में से एक है, इस ट्रेक मार्ग पर सबसे अनुभवी ट्रेकर्स द्वारा भी पहुँचा जा सकता है। ट्रेक मार्ग गहरे जंगलों और विचित्र गडसरी गाँव से गुज़रता है और अंत में सुंदर सरयू झील पर समाप्त होता है जो 11,865 फीट की ऊँचाई पर है। ट्रेक को पूरा करने में लगभग पूरा दिन लगता है जो कि बेहद चुनौतीपूर्ण है।


रिजर्व फॉरेस्ट और नेचर पार्क:

पब्बर वैली की प्राकृतिक खूबसूरती के अलावा यहां रिजर्व फॉरेस्ट और नेचर पार्क देखकर भी बेहद सुखद अनुभव करेंगे। यह स्थान आपको कुदरती रंगों से रूह-बा-रूह कराएंगें।

हरियाली के साथ देखें बर्फ के पहाड़ भी

सर्द मौसम में आप बर्फ के पहाड़ों का लुत्फ लेना चाहती हैं तो आप यहां के ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों पर जमी बर्फ का आनंद ले सकती हैं।

खड़ापत्थर कुप्पड़ ट्रेक:

खड़ापत्थर कुप्पड़ ट्रेक सबसे फेमस ट्रेक है जो हिमाचल प्रदेश की पब्बर घाटी का आसान ट्रेक है। इसकी शुरुआत खड़ापत्थर से होती है जो इस इलाके का प्रमुख गांव है। यहां खूबसूरत नज़ारों के बीच आपका वक्त अच्छा गुजरेगा।

जांगलिक-चन्दरनहान ट्रेक:

चंद्रनहन ट्रेक के लिए आपको जंग्लिक गांव की यात्रा करनी होगी और फिर रोडोडेंड्रोन, देवदार और ओक के पेड़ों, चमचमाती नदियों और नदियों के घने जंगलों के माध्यम से चुनौतीपूर्ण यात्रा शुरू करनी होगी।


रोहड़ू−बुरानघाटी दर्रा:

यह ट्रेक काफी सुखद है और सेब के बागों, छोटे सुंदर गांवों और स्पार्कलिंग नदियां आपको रास्ते में मिलेंगी। यह ट्रेक रोहड़ू से शुरू होता है और लगभग 4578 मीटर की दूरी पर बर्फ से ढकी बुरानघाटी दर्रे पर समाप्त होता है जो पूरी घाटी का मनोहर दृश्य प्रस्तुत करता है। 


Rajasthan High Court Driver Answer Key 2021: ड्राइवर स्क्रीनिंग टेस्ट का 'आंसर की' hcraj.nic.in पर जारी       देखें क्या हुआ, जब बिल्ली शरारती बच्चे की बनी गार्जियन...       ट्रैफिक हवलदार बन हाथी ने व्यक्ति को ऐसे सिखाया सबक, देख हो जाएंगे हैरान       एडवेंचर से भरपूर ट्रैकिंग की इन जगहों पर एक बार जाएं जरूर       विकेंड पर कुदरती नज़ारों के बीच वक्त गुजारना चाहते हैं तो...       बंजी जंपिंग के हैं शौक़ीन, तो ये जगहें हैं परफेक्ट       मेघालय की सीमा में घुसे पड़ोसी देश के हाथी, हो रहा है खूब वायरल       हाथी ने गुस्सैल गैंडे को सिखाया ऐसा सबक, देख आप कहेंगे भई वाह!       लॉकडाउन में बंदर ने पार्क में किया कुछ ऐसा, देख आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे       डॉगी ने हवा में किया ऐसा करतब, देख आप हो जाएंगे हैरान       लॉकडाउन में लड़के ने की ऐसी एक्सरसाइज, देख आप भी कहेंगे कल मैं भी...       मिनी डॉक्टर ने अपने पिता का किया इलाज, देख आप अपनी हंसी रोक नहीं पाएंगे       जब वन अधिकारी ने प्यासे नाग को पिलाया पानी, देख आप कह उठेंगे OMG!       भैंसे को छेड़ना पड़ा महंगा, देख आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे       चूहे ने गाया फ्रेडी मरकरी का ऐसा गाना, देख आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे       भालू ने बचाई कौए की जान, देख आप कहेंगे ऊपरवाले की लीला अपरंपार       भैंस को लात मारना पड़ा महंगा, देख आप अपनी हंसी रोक नहीं पाएंगे       डॉगी ने अपने दिव्यांग मालिक को कराई सैर, देख आंखें छलक उठेंगी       लॉकडाउन में डॉगी ने लड़की के साथ खेला वॉलीबॉल, देख आप हो जाएंगे हैरान       जब सीमा पर दिखा पाकिस्तान के पत्रकार, वीडियो देख आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे