उत्तर प्रदेश के 31 जिले कोरोना संक्रमण से मुक्त, 16 नए पाजिटिव केस मिले

उत्तर प्रदेश के 31 जिले कोरोना संक्रमण से मुक्त, 16 नए पाजिटिव केस मिले

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार कमजोर पड़ चुकी है। लगातार कोशिशों से कोरोना की दूसरी लहर पर बने प्रभावी नियंत्रण के बीच जनजीवन भी तेजी से सामान्य हो रहा है। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 16 नए मरीजों की पुष्टि हुई, जबकि इसी अवधि में 28 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए और संक्रमण से किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई। प्रदेश के 28 जिले कोरोना संक्रमण से मुक्त हो गए हैं। इनमें कोरोना का एक भी सक्रिय केस नहीं है। विगत 24 घंटे में दो लाख 17 हजार 846 सैम्पल की टेस्टिंग में 64 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं पाया गया, जबकि 11 जिलों में इकाई अंक में मरीज पाए गए। प्रदेश में अब एक्टिव कोविड केस की संख्या 214 रह गई है।

कोरोना से मुक्त होने वाले 31 जिलों में अलीगढ़, अमरोहा, अयोध्या, बागपत, बलिया, बलरामपुर, बांदा, बस्ती, बहराइच, भदोही, बिजनौर, चंदौली, चित्रकूट, देवरिया, एटा, फतेहपुर, गाजीपुर, गोंडा, हमीरपुर, हापुड़, हरदोई, हाथरस, कौशाम्बी, ललितपुर, महोबा, मुजफ्फरनगर, पीलीभीत, रामपुर, शामली, सिद्धार्थ नगर और सोनभद्र शामिल हैं। ये जिले अब कोविड संक्रमण से मुक्त हैं। टेस्टिंग में नम्बर एक उत्तर प्रदेश में अब तक सात करोड़ 40 लाख 38 हजार 991 कोविड सैम्पल की जांच की जा चुकी है। प्रदेश में अब तक 16 लाख 86 हजार 417 प्रदेशवासी कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं।

सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने बुधवार को अधिकारियों के साथ हुई उच्‍च स्‍तरीय समीक्षा बैठक में कहा कि एग्रेसिव ट्रेसिंग, टेस्टिंग और त्वरित ट्रीटमेंट के मंत्र से अच्छे परिणाम मिल रहे हैं। इस स्थिति को और बेहतर करने के लिए ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट की नीति के अनुरूप सभी जरूरी प्रबंध किए जाएं। कोविड टीके की उपलब्धता की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने टीकाकरण की प्रक्रिया पर संतोष जताया।

टीम-9 की समीक्षा बैठक में अधिकारियों ने सीएम योगी आदित्यनाथ को बताया कि मंगलवार को 14 लाख 51 हजार से अधिक लोगों ने टीकाकवर प्राप्त किया। भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप टीकाकरण के लिए अर्ह लोगों में से 45 फीसद से अधिक प्रदेशवासियों ने टीके की पहली खुराक प्राप्त कर ली है। प्रदेश में कोविड वैक्सीनेशन आठ करोड़ 25 लाख से अधिक हो गया है। यह किसी एक राज्य में हुआ सर्वाधिक टीकाकरण है। इस प्रक्रिया को और तेज किए जाने की आवश्यकता है। सीएम योगी ने कहा कि टीके की उपलब्धता के लिए भारत सरकार से सतत संपर्क बनाए रखा जाए।


थाना व तहसील दिवस पर कितनी हुई फरियादियों की सुनवाई, सीएम योगी ने तलब की रिपोर्ट

थाना व तहसील दिवस पर कितनी हुई फरियादियों की सुनवाई, सीएम योगी ने तलब की रिपोर्ट

यूपी में आम आदमी की फरियाद को अनसुना करने वाले अधिकारियों के बुरे दिनों की शुरुआत होने जा रही है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी थानों और तहसीलों पर लंबित शिकायतों का ब्यौरा तलब किया है। जिलेवार तैयार हो रही इस रिपोर्ट में थाना और तहसील दिवस में आईं शिकायतों के आधार पर एक-एक थाने और तहसील की कार्यपद्धति का आकलन होगा। साथ ही जनता-दर्शन और आइजीआरएस पोर्टल पर आईं समस्याओं को भी रिपोर्ट में शामिल किया जा रहा है। यह जिला और विभागवार रिपोर्ट फील्ड में तैनात अधिकारियों के प्रदर्शन की गुणवत्ता का मानक बनेगा। मुख्यमंत्री खुद इस बाबत जिलाधिकारियों और पुलिस कप्तानों के साथ समीक्षा करेंगे, जिसके बाद लापरवाह अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जन शिकायतों के समाधान में तेजी लाने के लिए आइजीआरएस तथा थाना व तहसील दिवस में आई शिकायतों के निस्तारण और लंबित मामलों की विस्तृत रिपोर्ट तलब की है। उन्होंने इसे मुख्यमंत्री कार्यालय को उपलब्ध कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। सीएम योगी ने इस रिपोर्ट में यह विवरण भी शामिल करने को कहा है कि शिकायतकर्ता की संतुष्टि का स्तर क्या रहा।

जन शिकायतों के निस्तारण को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार गंभीरता बरत रहे हैं। कुछ समय पहले ही उन्होंने समन्वित शिकायत निवारण प्रणाली (आइजीआरएस) सहित थाना और तहसील दिवस पर आने वाली शिकायतों का निस्तारण प्राथमिकता पर करने के निर्देश दिए थे। सीएम योगी ने आवेदन देने के पांच दिन के अंदर निवारण हो जाने की हिदायत देते हुए कहा था कि किसी को दोबारा आवेदन न देना पड़े। बुधवार को अपने सरकारी आवास पर आयोजित उच्चस्तरीय बैठक में उन्होंने फिर इसे लेकर कड़े निर्देश दिए और रिपोर्ट मांगी।

दूसरी तरफ कोरोना संक्रमण की समीक्षा के दौरान अधिकारियों ने सीएम योगी आदित्यनाथ को बताया कि पिछले 24 घंटों में राज्य में कोरोना संक्रमण के 16 नए मामले सामने आए हैं। इस अवधि में 28 व्यक्तियों को ठीक होने पर अस्पताल से छुट्टी दी गई। अब सक्रिय मामलों की संख्या 214 है। इस पर सीएम योगी ने कानपुर नगर में डाक्टरों की विशेष टीम भेजने के निर्देश दिए।

उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार सभी 75 जिलों में कम से कम एक-एक मेडिकल कालेज की स्थापना के लिए कृतसंकल्पित है। जल्द ही नौ जिलों में नवनिर्मित मेडिकल कालेजों का लोकार्पण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 14 जिलों में मेडिकल कालेज की स्वीकृति मिल गई है। मुख्यमंत्री ने इनके शिलान्यास की तैयारी करने के निर्देश दिए हैैं।