CM योगी ने किया किसान पाठशाला का शुभारंभ, बोले...

CM योगी ने किया किसान पाठशाला का शुभारंभ, बोले...

नई दिल्‍ली : यूपी के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने रविवार को लखनऊ में किसानों के लिए किसान पाठशाला का शुभारंभ किया. द मिलियन फार्मर्स नामक कार्यक्रम लोकभवन में आयोजित हुआ. कृषि कुंभ को लेकर कॉफी टेबल बुक का भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विमोचन किया. इस दौरान मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि सभी 75 जनपदों के 15 हजार से ज्यादा केंद्रों में कम लागत-अधिक उत्पादन के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए इस पाठशाला का आज शुभारंभ कर रहे हैं. 10 लाख से अधिक किसान हर पाठशाला में प्रशिक्षित हुए हैं. उन्‍होंने किसानों का प्रोत्‍साहन करते हुए कहा कि जीवन पलायन नहीं जूझने का नाम है.

लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न केंद्रों में उपस्थित सभी प्रगतिशील किसान भाई बहनों अन्नदाता किसानों का हृदय से स्वागत है. देश की आबादी के हिसाब से सबसे बड़े राज्य के प्रगतिशील किसानों की जागरूकता के लिए आज चौथे संस्करण का शुभारंभ कर रहे हैं.

उन्‍होंने कहा कि इस देश का किसान अपनी मेहनत से खाद्यान्न में आत्मनिर्भरता की ओर लेकर गया है. 5 दशक पहले देश को दूसरे देशों पर निर्भर रहना पड़ता था. खाद्यान्न भी ऐसा आता था जो उन देशों के पशुओं के लिए उपयोग में लाया जाता था. यूपी के सभी 2 करोड़ 33 लाख किसानों का हृदय से अभिनन्दन करता हूं.

मुख्‍यमंत्री ने इस दौरान कहा कि पिछले 2 वर्षों की सरकार का परिणाम है कि यूपी ने रिकॉर्ड खाद्यान्न का प्राप्त किया है. ये वही प्रदेश है, जहां किसान आत्महत्या करता था. उस समय राजनीतिक उपेक्षा थी. किसानों के प्रति, शासन की अकर्मण्यता के कारण किसान लगातार घाटे में चल रहा था.

सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद कि योजनाओँ को भी यहां लागू नहीं किया गया. इसका खमियाजा हमारे किसानों को भुगतना पड़ा. 2017 में जब किसानों ने हमारे हाथों में बागडोर सौंपी तो किसान हमारे एजेंडे में था. 2 करोड़ 33 लाख किसानों के डाटा बैंक को तैयार करने और केंद्र की योजनाओं को लागू करने का कार्यक्रम तैयार किया है.

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि जो किसान कृषि से पलायन करने को मजबूर था वो आज रिकॉर्ड उत्पादन कर रहा है. मशीनरी वही थी, आज भी वही है. लेकिन राजनीतिक नेतृत्व बदला है. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में 1 करोड़ 3 लाख किसानों को 2-2 हजार की किस्‍त मिली है बाकियों का भी डेटा तैयार कर रहे हैं.


किसानों को प्रात्‍साहित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि किसानों से जुड़ी बातों की मॉनिटरिंग प्रतिदिन मैं खुद ही करता हूं. आज प्रदेश में 6 हजार से अधिक जगहों पर गेंहू क्रय केंद्र संचालित हो रहे हैं. 72 घंटों में ही ऑनलाइन माध्‍यम से 1860 रुपए भेज रहे हैं. भारत सरकार पिछले 4 से 5 सालों से प्रदेश को 20 कृषि विज्ञान केंद्र देना चाहती थी. पिछली सरकार लेना ही नहीं चाहती थी. उन्हें लगता था इसकी कोई जरूरत नहीं है. 

सीएम योगी ने कहा कि हम लोगों ने 20 कृषि विज्ञान केंद्रों के प्रस्ताव भेजे जो कि स्वीकृत भी हुए. केंद्र की ओर से ज्यादातर अब सक्रिय भी हो गए हैं. हम लोग जब आए थे तब 2011 से 2017 तक गन्ना किसानों का बकाया था. पिछली 2 सरकारों को देखेंगे तो 50 हजार करोड़ बमुश्किल बकाया दिया गया. हम लोगों ने 68 हजार करोड़ से ज्यादा 2 सालों में ही बकाया उपलब्ध करवाया. 

उन्‍होंने कहा कि अब जो चीनी मिल लगा रहे हैं, उसमें एथनॉल बनाने की व्यवस्था भी करेंगे. आने वाले समय में अन्य चीनी मिलों को भी आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं. जब राजनीतिक नेतत्‍व ठान ले कि ये काम होना है, लोगों को सपना लगता था 37 लाख मीट्रिक टन पहले साल, दूसरे साल 53 लाख. इस वर्ष अभी तक 36 लाख मीट्रिक टन गेंहू का क्रय कर चुके हैं.

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि आज यूपी गन्ना उत्पादन में फिर से नम्बर 1 हो गया है. मोदी सरकार में 5 सालों तक महंगाई मुद्दा नहीं रही. आदर्श व्यवस्था ही रामराज्य की व्यवस्था है बिना भेदभाव के खुशहाली लोगों तक पहुंचा देना. हमारे पास देश की कुल भूमि की 11 प्रतिशत भूमि 17 प्रतिशत आबादी देश के खाद्यान का 20 प्रतिषत उत्पादन कर रही है.


सीएम योगी ने मेरठ को दिया करोड़ों का तोहफा!

सीएम योगी ने मेरठ को दिया करोड़ों का तोहफा!

प्रदेष के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज पश्चिमी उत्तर पदेश के सबसे बडे जिले मेरठ को कई योजनाओं की सोगात दी । केन्द्र सरकार के सहयोग से मेरठ को मेट्रो का विकल्प देने की घोेषणा करते हुए योगी ने कहा कि 32,000 करोड़ रुपए की लागत से यह मेरठ को दिल्ली के साथ जोड़ेगा। साथ ही, यह देश का पहला कार्य होगा, जहां इतनी बड़ी दूरी से जोड़ने की कार्य योजना बन रही है।

देश के विकास में योगदान
मुख्यमंत्री ने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों, युवाओं, बहन-बेटियों, माताओं, विद्वानों और समाज के हर तबके के लोगों ने देश के विकास में अपना योगदान दिया है, उसके प्रति शासन कृतज्ञतापूर्वक अपना कार्य कर सके, इसी भाव के साथ केन्द्र और राज्य सरकार कार्य कर रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले तीन वर्षों के दौरान प्रदेश सरकार ने गन्ना किसानों को एक लाख 12 हजार करोड़ रुपए का भुगतान किया है। रमाला चीनी मिल के विस्तारीकरण और आधुनिकीकरण की मांग 40 वर्षों से हो रही थी। राज्य सरकार ने वहां पर नया प्लाण्ट देकर किसानों को पूरी तरह से आश्वस्त किया कि उनके हितों को हर प्रकार का संरक्षण देंगे। सत्ता में आने के बाद राज्य सरकार ने 300 खाण्डसारी उद्योगों को लाइसेंस देकर व्यापक पैमाने पर फिर से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में खाण्डसारी उद्योग को पुनर्जीवित किया है। अब यह उद्योग बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार भी दे रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

जितनी चीनी की आवश्यकता उतना उत्पादन
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश व दुनिया को जितनी चीनी की आवश्यकता होगी, उतनी चीनी का उत्पादन किया जाएगा। शेष गन्ने से एथेनॉल बनाकर वाहनों को इससे चलाने की व्यवस्था की जाएगी, जिससे खाड़ी देशों को पेट्रोल व डीजल के नाम पर पैसा नहीं देना पड़ेगा। वह पैसा हमारे किसानों के खाते में जाएगा। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विकास में किसी भी प्रकार की कोई कोताही नहीं आने दी जाएगी। साथ ही, यहां की बहन-बेटियों की सुरक्षा के साथ भी किसी को खिलवाड़ नहीं करने देंगे।

इस मौके पर उन्होंने सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, मेरठ में आयोजित तीन दिवसीय कृषि प्रदर्षनी का उद्घाटन किया। उन्होंने प्रदर्षनी में लगे स्टाॅलों का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि कृषि प्रदर्षनी से किसानों को नई तकनीक की जानकारी होगी तथा जैविक खेती के विभिन्न आयामों से भी किसान अवगत होंगे। उन्होंने कहा कि किसानों को अधिक से अधिक संख्या में आकर इस कृषि प्रदर्षनी का लाभ लेना चाहिए। इस अवसर पर उन्होंने लाभार्थी किसानों को अनुदान पर मिले ट्रैक्टरों की चाभी सौंपी। कार्यक्रम को कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने भी सम्बोधित किया।


इस गांव में पिछले 9 सालों से नहीं पैदा हुआ कोई लड़का, लड़का होने पर मिलता है इनाम       यहां अस्थि कलश के लॉकर भी हुए हाउसफुल, मोक्ष कलश योजना से जाएंगे हरिद्वार       22 बच्चों की मां ने औनलाइन शेयर किया दर्द       यहां पति के मरते ही नर्क हो जाती है महिला की जिंदगी       हाथ लगा 11 हजार वर्ष पुराना अनमोल 'खजाना', अमेरिका में गोताखोरों की खुली किस्‍मत       कोरोना कहर के चलते यूजीसी ने लिया बड़ा फैसला, मई में होने वाली सभी ऑफलाइन परीक्षाओं पर लगाई रोक       पीजीटी के पदों के लिए परीक्षा की तारीखें घोषित       आईआईटी दिल्ली ने गेट काउंसलिंग की स्थगित, यहां पढ़ें पूरी जानकारी       एडमिशन टेस्ट के लिए 29 मई तक आवेदन का मौका, ऐसे करें अप्लाई       फॉरेन मेडिकल ग्रेजुएट एग्जामिनेशन रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख आज       एमपी यूनिवर्सिटी ने यूजी और पीजी सेमेस्टर फाइनल परीक्षाओं की तारीखें की घोषित       बिना विलंब शुल्क के आवेदन करने की आखिरी तारीख कल, फौरन करें अप्लाई       ऑफिस अटेंडेंट परीक्षा के नतीजे जल्द होंगे घोषित, ऐसे कर सकेंगे चेक       फाइनल और इंटरमीडिएट परीक्षाओं के लिए आवेदन की आखिरी तारीख आज, जल्द करें अप्लाई       यूपी बोर्ड हाई स्कूल और इंटर बोर्ड परीक्षाओं पर जल्द होगा फैसला, छात्र कर रहे हैं रद्द करने की मांग       इस दिन भेजी जाएगी पीएम किसान योजना की सातवीं किस्त, मिलेंगे 2000 रुपये       रंग-बिरंगी विरासत का शानदार नमूना है जौनपुर       जयपुर की शान है खूबसूरत नाहरगढ़ किला है, एक बार ज़रूर जाये       प्राकृतिक संसाधनो से भरपूर राज्य झारखण्ड जैसे झरने और कही...       मिलेगी शांति और सुकून भरी राहत के लिए एक बार ज़रूर जाये