हर किसान को आत्मनिर्भर बनाना ही हमारी सरकार का लक्ष्य : CM योगी

हर किसान को आत्मनिर्भर बनाना ही हमारी सरकार का लक्ष्य : CM योगी

लखनऊ। आजादी के 70 साल बाद तक किसानों को केवल वोट बैंक समझा गया। सत्ता में बैठे लोगों की प्राथमिकता से और राजनीतिक एजेंडे से किसान नदारद थे। भाजपा सरकार के सत्ता में आने के बाद किसान मुख्य धारा में शामिल हुए और विकास में भागीदार बने। बुधवार को किसान कल्याण मिशन का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्ववर्ती सरकारों पर निशाना साधते हुए किसानों की आय दोगुना करने का संकल्प दोहराया। कानपुर रोड पर बंथरा स्थित विनायक स्पोर्ट्स स्टेडियम में मुख्यमंत्री ने एक साथ प्रदेश के 825 ब्लॉकों में शुरू किसान कल्याण मिशन के तहत होने वाले फायदे गिनाए।

योगी ने कहा कि देश में जय जवान और जय किसान का नारा तो दिया गया, लेकिन इसके बावजूद किसान हाशिये पर था। 2014 में मोदी सरकार के आने पर किसान मुख्य धारा में शामिल हुए। इससे पहले किसानों की आत्महत्या की खबरें आती थीं, जबकि आज प्रगतिशील किसानों की खुशहाली की कहानियां आ रही हैं। यह बदलाव की शुरुआत है। देश के हर किसान को आत्मनिर्भर बनाना ही हमारी सरकार का लक्ष्य है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब हमारी सरकार आई तो कैबिनेट का सबसे पहला निर्णय किसानों के गन्ना भुगतान का रहा। पिछली सरकारों में धान और गेहूं की खरीद नहीं होती थी।

हमने लक्ष्य से अधिक खरीद की। विज्ञान केंद्र स्थापित किए जा रहे हैं, जिससे खेती और बेहतर हो रही है। सीएम ने किसान आंदोलन की ओर इशारा करते हुए कहा कि तमाम लोग किसानों को लेकर गलतफहमी पैदा कर रहे हैं। उन लोगों को अच्छा नहीं लग रहा कि किसान खुशहाल हों। दुग्ध उत्पादन में हम नंबर एक हैं। किसानों को सम्मान निधि प्रदान की गई।

कोरोना काल में किसानों के लिए काम किया गया। सीएम ने कृषि ढांचा बढ़ाने पर जोर दिया। कहा कि ग्राम पंचायतें अपने स्टोर बनाकर अनाज का भंडारण करें। इससे आय होगी और भटकना नहीं पड़ेगा। सीएम ने किसानों को सरकारी योजनाओं का लाभ उठा दुग्ध उत्पादन बढ़ाने को कहा। सीएम ने बुंदेलखंड में दुग्ध उत्पादन समिति का हवाला दिया जिसने डेढ़ करोड़ की आय की।


सीएम योगी ने मेरठ को दिया करोड़ों का तोहफा!

सीएम योगी ने मेरठ को दिया करोड़ों का तोहफा!

प्रदेष के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज पश्चिमी उत्तर पदेश के सबसे बडे जिले मेरठ को कई योजनाओं की सोगात दी । केन्द्र सरकार के सहयोग से मेरठ को मेट्रो का विकल्प देने की घोेषणा करते हुए योगी ने कहा कि 32,000 करोड़ रुपए की लागत से यह मेरठ को दिल्ली के साथ जोड़ेगा। साथ ही, यह देश का पहला कार्य होगा, जहां इतनी बड़ी दूरी से जोड़ने की कार्य योजना बन रही है।

देश के विकास में योगदान
मुख्यमंत्री ने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों, युवाओं, बहन-बेटियों, माताओं, विद्वानों और समाज के हर तबके के लोगों ने देश के विकास में अपना योगदान दिया है, उसके प्रति शासन कृतज्ञतापूर्वक अपना कार्य कर सके, इसी भाव के साथ केन्द्र और राज्य सरकार कार्य कर रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले तीन वर्षों के दौरान प्रदेश सरकार ने गन्ना किसानों को एक लाख 12 हजार करोड़ रुपए का भुगतान किया है। रमाला चीनी मिल के विस्तारीकरण और आधुनिकीकरण की मांग 40 वर्षों से हो रही थी। राज्य सरकार ने वहां पर नया प्लाण्ट देकर किसानों को पूरी तरह से आश्वस्त किया कि उनके हितों को हर प्रकार का संरक्षण देंगे। सत्ता में आने के बाद राज्य सरकार ने 300 खाण्डसारी उद्योगों को लाइसेंस देकर व्यापक पैमाने पर फिर से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में खाण्डसारी उद्योग को पुनर्जीवित किया है। अब यह उद्योग बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार भी दे रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

जितनी चीनी की आवश्यकता उतना उत्पादन
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश व दुनिया को जितनी चीनी की आवश्यकता होगी, उतनी चीनी का उत्पादन किया जाएगा। शेष गन्ने से एथेनॉल बनाकर वाहनों को इससे चलाने की व्यवस्था की जाएगी, जिससे खाड़ी देशों को पेट्रोल व डीजल के नाम पर पैसा नहीं देना पड़ेगा। वह पैसा हमारे किसानों के खाते में जाएगा। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विकास में किसी भी प्रकार की कोई कोताही नहीं आने दी जाएगी। साथ ही, यहां की बहन-बेटियों की सुरक्षा के साथ भी किसी को खिलवाड़ नहीं करने देंगे।

इस मौके पर उन्होंने सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, मेरठ में आयोजित तीन दिवसीय कृषि प्रदर्षनी का उद्घाटन किया। उन्होंने प्रदर्षनी में लगे स्टाॅलों का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि कृषि प्रदर्षनी से किसानों को नई तकनीक की जानकारी होगी तथा जैविक खेती के विभिन्न आयामों से भी किसान अवगत होंगे। उन्होंने कहा कि किसानों को अधिक से अधिक संख्या में आकर इस कृषि प्रदर्षनी का लाभ लेना चाहिए। इस अवसर पर उन्होंने लाभार्थी किसानों को अनुदान पर मिले ट्रैक्टरों की चाभी सौंपी। कार्यक्रम को कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने भी सम्बोधित किया।


इस गांव में पिछले 9 सालों से नहीं पैदा हुआ कोई लड़का, लड़का होने पर मिलता है इनाम       यहां अस्थि कलश के लॉकर भी हुए हाउसफुल, मोक्ष कलश योजना से जाएंगे हरिद्वार       22 बच्चों की मां ने औनलाइन शेयर किया दर्द       यहां पति के मरते ही नर्क हो जाती है महिला की जिंदगी       हाथ लगा 11 हजार वर्ष पुराना अनमोल 'खजाना', अमेरिका में गोताखोरों की खुली किस्‍मत       सेंट्रल रेलवे ने सीनियर रेजिडेंट के पदों पर निकली वैकेंसी, ऐसे होगा सेलेक्शन       लेखा विभाग गोवा में निकली 109 एकाउंटेंट की भर्ती, इस दिन से करें ऑनलाइन आवेदन       सीडैक नोएडा में 119 प्रोजेक्ट मैनेजर और इंजीनियर पदों के लिए आवेदन का कल आखिरी दिन       नेशनल एंट्रेंस स्क्रीनिंग टेस्ट के लिए आवेदन की लास्ट डेट नजदीक       डीएसएसएसबी भर्ती परीक्षा स्थगित, DSSSB ने dsssb.delhi.gov.in पर जारी किया नोटिफिकेशन       नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर रेलवे में इन पदों पर निकली वैकेंसी, 11 मई को होगा इंटरव्यू       आईआईटी मंडी में जूनियर इंजीनियर और स्पोर्ट्स ऑफिसर सहित अन्य 43 पदों पर निकली भर्तियां       टाटा मेमोरियल सेंटर, वाराणसी में निकली पंप ऑपरेटर और फायरमैन की भर्ती       यहां निकली है राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की भर्ती, 166 पदों के लिए आवेदन 31 मई तक       ऑयल इंडिया लिमिटेड में निकली 119 असिस्टेंट मेकेनिक और अन्य पदों की भर्ती       कोरोना कहर के चलते यूजीसी ने लिया बड़ा फैसला, मई में होने वाली सभी ऑफलाइन परीक्षाओं पर लगाई रोक       पीजीटी के पदों के लिए परीक्षा की तारीखें घोषित       आईआईटी दिल्ली ने गेट काउंसलिंग की स्थगित, यहां पढ़ें पूरी जानकारी       एडमिशन टेस्ट के लिए 29 मई तक आवेदन का मौका, ऐसे करें अप्लाई       फॉरेन मेडिकल ग्रेजुएट एग्जामिनेशन रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख आज