यूपी के युवाओं को नौकरी के लिए नहीं पडे़गा भटकना, योगी सरकार स्टार्टअप के लिए बनाएगी विशेष योजना

यूपी के युवाओं को नौकरी के लिए नहीं पडे़गा भटकना, योगी सरकार स्टार्टअप के लिए बनाएगी विशेष योजना

उत्तर प्रदेश (uttar pradesh) में युवाओं को बेहतर रोजगार के अवसर मिले इसके लिए जल्द ही सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) राज्य के बड़े शहरों में एक स्पेशल योजना शुरू करने जा रहे हैं. नोएडा, ग्रेटर नोएडा, लखनऊ, मेरठ आदि शहरों में ये विशेष योजना शुरू होगी. इस योजना के तहत प्रदेश को हर साल प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का बड़ा हिस्सा भी मिलेगा. साथ ही प्रदेश के लाखो इंजीनियरिंग और मैनजमेंट की डिग्री लेने वाले छात्रों को नौकरी के नए-नए अवसर भी मिलेंगे.

इस स्टार्टअप को लेकर गुरुवार को जेवर विधायक धीरेंद्र सिंह (Jewar MLA Dhirendra Singh) ने लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी. इस मुलाकात के दौरान विधायक धीरेंद्र सिंह के साथ आए युवा उद्यमियों की एक टीम ने भी सीएम से मुलाकात और बातचीत की थी.

युवा उद्यमियों ने दिए सीएम को सुझाव
युवा उद्यमियों की टीम ने सीएम योगी से बातचीत के दौरान उन्हे स्टार्टअप को लेकर कई सुझाव भी दिए हैं. विधायक ने सीएम को बताया कि देश में जुलाई तक 70,000 करोड़ रुपये स्टार्टअप में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश हुआ है. विश्वव्यापी महामारी के बावजूद स्टार्टअप में पूंजी निवेश बरकरार है. देश में बंगलुरु, हैदराबाद, पुणे, मुंबई और गुरुग्राम स्टार्टअप के बड़े हब हैं.

टोटल प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का 80 फीसदी से ज्यादा हिस्सा इन्हीं पांच शहरों में जाता है. प्रदेश में आईआईटी कानपुर और आईआईएम लखनऊ जैसे शिक्षण संस्थान हैं. टॉप मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज भी हैं. ऐसे में अगर प्रदेश में स्टार्टअप को लेकर अच्छी योजना होगी तो राज्य को बहुत फायदा होगा.

बेहतर मौके होंगे तो राज्य के युवाओं को बाहर नौकरी नहीं करनी पड़ेगी
विधायक ने सीएम को बताया कि नोएडा और ग्रेटर नोएडा से हर साल 60 हजार छात्र इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करके निकलते हैं. ये सारे इंजीनियर बेंगलुरु, हैदराबाद, पुणे, मुंबई और गुरुग्राम में नौकरियां कर रहे हैं. अगर उत्तर प्रदेश सरकार स्टार्टअप को लेकर विशेष व्यवस्था कर दे तो इन इंजीनियरों को नौकरियां दी जा सकती हैं.

जिसके बाद सीएम ने इसे लेकर एक विस्तृत योजना तैयार करके देने के लिए कहा है. मुख्यमंत्री ने कहा कि इस दिशा में राज्य सरकार युवा उद्यमियों को पूरा समर्थन करेगी. विधायक ने बताया कि यह प्रतिनिधिमंडल विस्तृत योजना तैयार करके बहुत जल्द फिर मुख्यमंत्री से मुलाकात करेगा.


गोरखपुर का ये गांव बन गया नंबर वन, जानिए पूरा मामला

गोरखपुर का ये गांव बन गया नंबर वन, जानिए पूरा मामला

जिले के 12 गांवों में सौ फीसद कोविड टीकाकरण हो चुका है। हर व्यक्ति को कोरोना रोधी टीका लगाया जा चुका है। हालांकि अभी ज्यादातर को पहली डोज ही लगाई गई है। इसमें सरदार नगर के आठ व खजनी के चार गांव हैं। इसमें खजनी का रावतडाड़ी गांव नंबर वन है। वहीं सबसे पहले सौ फीसद टीकाकरण हुआ है। वैक्सीन पर्याप्त मिलने लगी है, इसलिए अब ज्यादातर बूथ संचालित किए जा रहे हैं।

गांवों में जाकर लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित कर रही है स्वास्थ्य विभाग की टीमें

स्वास्थ्य विभाग की टीमें गांवों में जाकर लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित कर रही हैं। सरदार नगर के शिवपुर, महुअवा बुजुर्ग, बसडीला, भौवापार, देवकलिया, छपरा मंसूर, जयपुर, देवीपुर तथा खजनी के रावतडाड़ी, गोपालपुर, सरया तिवारी व केवटली में सौ फीसद टीकाकरण हो चुका है। खजनी के रावतडाड़ी गांव का यूनिसेफ की टीम ने निरीक्षण किया है और अब वीडियो बनाने की तैयारी चल रही है।


12 गांवों में सौ फीसद किया गया टीकाकरण

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा.एनके पांडेय ने कहा कि जिले में 12 गांवों में सौ फीसद टीकाकरण किया गया है। वहां के सभी निवासियों को पहली डोज लगा दी गई है। दूसरी डोज भी लगाई जा रही है। लगभग दो दर्जन गांव ऐसे हैं, जहां सौ फीसद टीकाकरण पूरा होने के करीब है।

38741 लोगों को लगाया गया कोरोना रोधी टीका


कोविड टीकाकरण अभियान में 135 बूथों पर 38741 लोगों को कोरोना रोधी टीका लगाया गया। 29851 को पहली व 8890 लोगों को दूसरी डोज दी गई। बूथों पर भीड़ उमड़ी थी।

गीताप्रेस अतिथि भवन में टीकाकरण आज

अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के तत्वावधान में गीताप्रेस रोड स्थित गीताप्रेस अतिथि भवन में आठ व 10 सितंबर को कोरोना रोधी टीका लगाया जाएगा। टीकाकरण सुबह 10 बजे से शुरू होगा। लोगों को कोविशील्ड की पहली व दूसरी डोज दी जाएगी। यह जानकारी महामंत्री राजू लुहारुका ने दी है।