पति ने दुबई से ही टेलीफोन पर पत्नी को तीन तलाक दे डाला

पति ने दुबई से ही टेलीफोन पर पत्नी को तीन तलाक दे डाला

लखनऊ: लखनऊ PGI में कार्यरत स्त्री पर उनके ससुराल वालों ने सैलरी देने का दबाव डाला. इंकार करने पर ससुराल वालों ने अपने बेटे को उकसाते हुए तीन तलाक देने के लिए राजी कर लिया. जिसके बाद पति ने दुबई से ही टेलीफोन पर पत्नी को तीन तलाक दे डाला. जिसके बाद पीड़िता ने PGI कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया है.

एकतानगर निवासी स्त्री का विवाह 7 दिसंबर 2018 को हुसैनगंज के रहने वाले आरिफ बेग के साथ हुआ था. विवाह के कुछ महीनों बाद ही जॉब के लिए पति दुबई चला गया था. पीड़िता के मुताबिक, पति के जाते ही ससुराल वाले उसे प्रताड़ित करने लगे. घर से दहेज लाने के लिए कहा. इंकार करने पर जॉब से मिलने वाला वेतन देने का दबाव बनाया गया. बात नहीं मानने पर उसके साथ हाथापाई की गई. स्त्री ने कई दफा पति को टेलीफोन पर यह जानकारी दी. किन्तु वह हमेश परिवार का पक्ष लेता रहा. परेशान होकर स्त्री मायके चली गई थी. 30 मई को वापस ससुराल पहुंचने पर ससुर ने उसे तलाक के डॉक्यूमेंट्स थमा दिए. एतराज जताने पर आरिफ को मिला कर स्त्री से बात कराई.

आरोप है कि टेलीफोन पर वार्ता के समय ही आरिफ ने पीड़िता को तीन तलाक बोल दिया. पति के यह शब्द सुन कर स्त्री दंग रह गई. उसने परिवार बचाने के लिए काफी प्रयास की. रिज़ल्ट नहीं निकलने पर पीड़िता ने PFI कोतवाली में कम्पलेन दर्ज कराई. उसने आरोप लगाते हुए बोला है कि ससुर सगीर अहमद ने उसे तलाक का फतवा दिया था. इंस्पेक्टर देवेंद्र विक्रम सिंह के अनुसार, आरिफ, उसके पिता सगीर अहमद, भाई आतिफ, शबनम बानो और नियाज अहमद के विरूद्ध मुसलमान स्त्री शादी पर अधिकारों की सुरक्षा अधिनियम की धारा में मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है.