सिंचाई व्यवस्था में व्यापक सुधार से यूपी में किसानों को मिल रहा है लाभ

सिंचाई व्यवस्था में व्यापक सुधार से यूपी में किसानों को मिल रहा है लाभ

उत्तर प्रदेश में उर्वर भूमि और पर्याप्त जल संसाधन हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में प्रदेश में सिंचाई व्यवस्था में व्यापक सुधार हुआ है। हर खेत को पर्याप्त पानी मिल रहा है, जिससे फसलें लहलहा रही हैं। पिछले 46 वर्षों से अधर में लटकी बाणसागर सिंचाई परियोजना योगी सरकार के प्रयासों से पूर्ण हो चुकी है, जिसका लाभ किसानों को मिल रहा है।

लंबित सिंचाई परियोजनाओं को समयबद्ध ढंग से पूर्ण कराने के परिणामस्वरूप प्रदेश के सिंचाई संसाधनों में बढ़ोत्तरी हुई है। तकनीक का उपयोग कर कम लागत से अधिक क्षेत्रफल में सिंचाई की व्यवस्था की जा रही है। सिंचाई क्षमता में वृद्धि तथा लागत में कमी लाकर कृषकों की आय में वृद्धि करने के उद्देश्य से स्प्रिंकलर सिंचाई प्रणाली को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। सौर ऊर्जा के माध्यम से सिंचाई को प्रोत्साहित करने के लिए प्रदेश में सोलर पम्प तथा मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना का संचालन भी किया जा रहा है।

यूपी सरकार की प्रमुख सिंचाई परियोजनाएं -

• 334 सिंचाई परियोजनाएं पूर्ण।

• 512 गंगा तालाबों का निर्माण।

• 149 बाढ़ सुरक्षा की परियोजनाएं पूर्ण।

• 50 लाख किसान ड्रिप स्प्रिंकलर सिंचाई योजना से लाभान्वित। योजना में लघु एवं सीमांत कृषकों को 90% एवं सामान्य कृषकों को 80% का अनुदान मिला।

• 2.97 लाख से अधिक निःशुल्क बोरिंग योजना से 161 लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र की सिंचन क्षमता में हुई वृद्धि।

• 19,483 सोलर पम्प सिंचाई की सुविधा के लिए स्थापित। 2 एवं 3 हॉर्स पावर वाले सोलर पम्पों पर 70% तथा 5 हॉर्स पावर वाले पम्पों पर 40% अनुदान की व्यवस्था।

• 13,645 खेत तालाब का बुंदेलखंड में निर्माण हुआ। वर्षा जल को संग्रहित करके सिंचाई हेतु उपयोग करने के लिए खेत तालाब निर्माण के लिए 50% तक अनुदान। भुगतान डी.बी.टी. द्वारा तीन किश्तों में किया गया।

• 2,000 नवीन राजकीय नलकूपों का निर्माण कर 69,050 हेक्टेयर सिंचन क्षमता का विस्तार किया गया। इससे 67,600 कृषक परिवार लाभान्वित हुए। 100 राजकीय नलकूपों का पुनर्निर्माण हुआ।

मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना

लघु, सीमांत, अनुसूचित जाति एवं जनजाति के कृषक समूह के लिए मिनी ग्रीन ट्यूबवेल योजना। योजना के तहत नलकूप के सबमर्सिबल पम्प का संचालन सौर ऊर्जा के माध्यम से किया जाएगा। सिंचाई सुविधा के लिए बुंदेलखंड के किसानों को बिजली बिल के फिक्स चार्ज में 50 से 75% तक की छूट।

46 वर्षों से लंबित बाण सागर परियोजना पूर्ण

• पहाड़ी बांध परियोजना, पथरई बांध परियोजना, जमरार बांध परियोजना, मौदहा बांध परियोजना, पहुंज बांध परियोजना, लहचुरा बांध परियोजना और गुण्टा बांध परियोजना भी पूरी हुईं।

• 2.16 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता में हुई वृद्धि

• 35.50 लाख किसान सरयू नहर परियोजना, मध्य गंगा नहर परियोजना और अर्जुन सहायक परियोजना से लाभान्वित।


सीएम योगी ने मेरठ को दिया करोड़ों का तोहफा!

सीएम योगी ने मेरठ को दिया करोड़ों का तोहफा!

प्रदेष के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज पश्चिमी उत्तर पदेश के सबसे बडे जिले मेरठ को कई योजनाओं की सोगात दी । केन्द्र सरकार के सहयोग से मेरठ को मेट्रो का विकल्प देने की घोेषणा करते हुए योगी ने कहा कि 32,000 करोड़ रुपए की लागत से यह मेरठ को दिल्ली के साथ जोड़ेगा। साथ ही, यह देश का पहला कार्य होगा, जहां इतनी बड़ी दूरी से जोड़ने की कार्य योजना बन रही है।

देश के विकास में योगदान
मुख्यमंत्री ने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों, युवाओं, बहन-बेटियों, माताओं, विद्वानों और समाज के हर तबके के लोगों ने देश के विकास में अपना योगदान दिया है, उसके प्रति शासन कृतज्ञतापूर्वक अपना कार्य कर सके, इसी भाव के साथ केन्द्र और राज्य सरकार कार्य कर रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले तीन वर्षों के दौरान प्रदेश सरकार ने गन्ना किसानों को एक लाख 12 हजार करोड़ रुपए का भुगतान किया है। रमाला चीनी मिल के विस्तारीकरण और आधुनिकीकरण की मांग 40 वर्षों से हो रही थी। राज्य सरकार ने वहां पर नया प्लाण्ट देकर किसानों को पूरी तरह से आश्वस्त किया कि उनके हितों को हर प्रकार का संरक्षण देंगे। सत्ता में आने के बाद राज्य सरकार ने 300 खाण्डसारी उद्योगों को लाइसेंस देकर व्यापक पैमाने पर फिर से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में खाण्डसारी उद्योग को पुनर्जीवित किया है। अब यह उद्योग बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार भी दे रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

जितनी चीनी की आवश्यकता उतना उत्पादन
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश व दुनिया को जितनी चीनी की आवश्यकता होगी, उतनी चीनी का उत्पादन किया जाएगा। शेष गन्ने से एथेनॉल बनाकर वाहनों को इससे चलाने की व्यवस्था की जाएगी, जिससे खाड़ी देशों को पेट्रोल व डीजल के नाम पर पैसा नहीं देना पड़ेगा। वह पैसा हमारे किसानों के खाते में जाएगा। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विकास में किसी भी प्रकार की कोई कोताही नहीं आने दी जाएगी। साथ ही, यहां की बहन-बेटियों की सुरक्षा के साथ भी किसी को खिलवाड़ नहीं करने देंगे।

इस मौके पर उन्होंने सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, मेरठ में आयोजित तीन दिवसीय कृषि प्रदर्षनी का उद्घाटन किया। उन्होंने प्रदर्षनी में लगे स्टाॅलों का अवलोकन किया। उन्होंने कहा कि कृषि प्रदर्षनी से किसानों को नई तकनीक की जानकारी होगी तथा जैविक खेती के विभिन्न आयामों से भी किसान अवगत होंगे। उन्होंने कहा कि किसानों को अधिक से अधिक संख्या में आकर इस कृषि प्रदर्षनी का लाभ लेना चाहिए। इस अवसर पर उन्होंने लाभार्थी किसानों को अनुदान पर मिले ट्रैक्टरों की चाभी सौंपी। कार्यक्रम को कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने भी सम्बोधित किया।


इस गांव में पिछले 9 सालों से नहीं पैदा हुआ कोई लड़का, लड़का होने पर मिलता है इनाम       यहां अस्थि कलश के लॉकर भी हुए हाउसफुल, मोक्ष कलश योजना से जाएंगे हरिद्वार       22 बच्चों की मां ने औनलाइन शेयर किया दर्द       यहां पति के मरते ही नर्क हो जाती है महिला की जिंदगी       हाथ लगा 11 हजार वर्ष पुराना अनमोल 'खजाना', अमेरिका में गोताखोरों की खुली किस्‍मत       कोरोना कहर के चलते यूजीसी ने लिया बड़ा फैसला, मई में होने वाली सभी ऑफलाइन परीक्षाओं पर लगाई रोक       पीजीटी के पदों के लिए परीक्षा की तारीखें घोषित       आईआईटी दिल्ली ने गेट काउंसलिंग की स्थगित, यहां पढ़ें पूरी जानकारी       एडमिशन टेस्ट के लिए 29 मई तक आवेदन का मौका, ऐसे करें अप्लाई       फॉरेन मेडिकल ग्रेजुएट एग्जामिनेशन रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख आज       एमपी यूनिवर्सिटी ने यूजी और पीजी सेमेस्टर फाइनल परीक्षाओं की तारीखें की घोषित       बिना विलंब शुल्क के आवेदन करने की आखिरी तारीख कल, फौरन करें अप्लाई       ऑफिस अटेंडेंट परीक्षा के नतीजे जल्द होंगे घोषित, ऐसे कर सकेंगे चेक       फाइनल और इंटरमीडिएट परीक्षाओं के लिए आवेदन की आखिरी तारीख आज, जल्द करें अप्लाई       यूपी बोर्ड हाई स्कूल और इंटर बोर्ड परीक्षाओं पर जल्द होगा फैसला, छात्र कर रहे हैं रद्द करने की मांग       इस दिन भेजी जाएगी पीएम किसान योजना की सातवीं किस्त, मिलेंगे 2000 रुपये       रंग-बिरंगी विरासत का शानदार नमूना है जौनपुर       जयपुर की शान है खूबसूरत नाहरगढ़ किला है, एक बार ज़रूर जाये       प्राकृतिक संसाधनो से भरपूर राज्य झारखण्ड जैसे झरने और कही...       मिलेगी शांति और सुकून भरी राहत के लिए एक बार ज़रूर जाये